कील मुँहासे और जवानी का फूटना

    हम अपनी त्वचा के लिये बहुत सजग होते हैं, त्वचा सुँदर दिखे, निखार आये, इसके लिये पता नहीं क्या क्या जतन करते रहते हैं। कोई मुल्तानी मिट्टी लगाता है तो कोई खीरा, और कोई संतरे के छिलके अपने गालों पर ज्यादा चमक के लिये रगड़ता है। हम सर्दियों में चेहरे पर बादाम का तेल लगाते हैं, जो कि किसी भी कोल्ड क्रीम या विंटर क्रीम से कहीं ज्यादा अच्छा होता है। सर्दियों में चेहरा फटता भी नहीं और चमक बरकरार रहती है।
 
     कील मुँहासे अक्सर 15-16 वर्ष की उम्र से होना शुरू होते हैं, हमारे यहाँ स्कूल और कॉलेज में दूसरे लोग कील मुँहासे वाले चेहरों को देखकर कहते थे कि ताजी जवानी फूटी है, अक्सर
कील मुँहासे को हमारे समाज में जवानी से जोड़कर लिया जाता है। जब कील मुँहासे चेहरे पर होते हैं तो कहीं न कहीं ये आत्मविश्वास भी कम करते हैं ।
    मुझे अच्छे से याद है कि मुझे कील मुँहासे 16 वर्ष की उम्र में चेहरे पर आ गये थे, और अचानक ही मुझे किसी भी समूह में न जाने की इच्छा होती है, और न ही किसी से मिलने की इच्छा होती थी, ऐसे लगता था कि मेरे चेहरे पर कुछ ऐसा लग रहा है, जो न मुझे पसंद है और न ही किसी दूसरे को पसंद है, कोई कहता कि यह खून साफ नहीं होने के कारण होते हैं, कोई कहता कि ये चेहरा बराबर न धोने के कारण हुआ है, कुछ तो यहाँ तक कहते थे कि ये लौंडे लौंडियों में जवानी अंकुरित होने के लक्षण होते हैं।
हमें जो कारण समझ में आये थे वे हैं –
1)   चेहरे की सफाई बराबर न रखना – जब भी कोई मुँहासा कसमसाते हुए फोड़ते तो उसके अंदर की गंदगी और कील चेहरे पर ही दूसरी जगह लगने से बचना चाहिये, हाथों के अपनी पेंट शर्ट से न पोंछकर हाथ साबुन से धोने चाहिये, वैसे ही चेहरा भी धोना चाहिये।
2)    प्रदूषण के कारण – प्रदूषण के कारण हमारे चेहरे के रोमछिद्र बंद हो जाते हैं, और शरीर की गंदगी पसीने के रूप में नहीं निकल पाती है तो यह कील मुँहासों का रूप धारण कर लेती है।
3)   तैलीय त्वचा – मेरी त्वचा तैलीय है, जब भी ज्यादा तेल चेहरे पर लगे, उसे रूमाल से साफ कर लेना चाहिये, और नहीं तो प्योर एक्टिव नीम फेश वॉश से चेहरा अच्छे से धो लेना चाहिये, इसमें नीम होने के कारण यह चेहरे के सारे कीटाणुओं को तो मार ही देता है, साथ ही नीम की विशेषता है कि वह गंदगी को अच्छे से काट देता है।
    कील मुँहासों को फोड़ने के लिये हम हमेशा अपने साथ रुई रखते थे, जिससे इनसे निकलने वाली गंदगी चेहरे पर कहीं और न लगे और जल्दी मुँह न धोना पड़े, और वह रुई कचरे के डिब्बे के हवाले कर देते थे और हमेशा घर हो या बाहर स्वच्छता का ध्यान रखते थे।
This post is written for Indiblogger activity you can find more about Pure Active Neem Facewash bit.ly/GPABlogLinkIndiBloggerActivity and
bit.ly/GarnierPureActiveNeemWebsite.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *