झगड़ा न करना डर नहीं, समझदारी है (Don’t Fight, its understanding not fear)

    कल ऑफिस जाते समय एक लाल बत्ती पर हम रुके हुए थे, बगल में थोड़ी जगह खाली थी, और उसके बाद फिर एक कार खड़ी हुई थी, हम आराम से सुबह सुबह के उल्लासित जीवन का दर्शन कर रहे थे, कई सारे लोग आज भी सुबह पूजा करते हैं और उसके बाद तिलक लगाकर ही घर से निकलते हैं, लाल, पीला, सफेद रंग के तिलक अमूमन देखने को मिलते हैं, किसी के माथे पर गोल तो किसी के माथे पर लंबा टीका लगा हुआ दिखता है, तिलक या टीका कौन सी ऊँगली से लगाया जाये, इसके ऊपर कुछ दिनों पहले पढ़ रहा था, तो उसमें हर उँगली का अलग अलग महत्व बताया गया था, जैसे कि मध्यमा से तिलक लगाने से लक्ष्मी जी प्रसन्न होती हैं, और अनामिका से तिलक लगाने पर शत्रुओं का नाश होता है, शायद यह ज्ञान हमारे पूर्वजों के पास रहा हो, परंतु अब लोग इन सब विषयों में रूचि नहीं लेते हैं तो इस तरह से यह ज्ञान भी लुप्त होता जायेगा।
महिला चालक
 
    सुबह ऑफिस जाते समय कुछ लोग हर्षित प्रफुल्लित रहते हैं, और कुछ लोग तनाव में, तनाव भले ही फिर कल के अधूरे काम को हो या फिर ऑफिस देरी से जाने का, पर कुछ लोग तनाव में ही जीने लगते हैं, लाल बत्ती पर भी ऐसे लोगों को हार्न बजाते हुए देखा जा सकता है, हार्न बजाने की स्टाईल भी अलग अलग होती हैं, उससे भी कई बार उनके तनाव का स्तर पता चलता है, जो हार्न को देर तक एक साथ दबाकर रखे और फिर बार बार हार्न को दबाकर छोड़े निश्चित ही उसके तनाव का स्तर बहुत ही ज्यादा है, और मैं समझता हूँ ऐसे तनावग्रस्त व्यक्ति को ऑफिस की बजाय घर वापिस चला जाना चाहिये।
    
    
    कुछ लोग हमेशा ही मोबाईल पर बात करते हुए दिखते हैं, पता नहीं कितनी बातें करते हैं इनकी बातें ही कभी खत्म नहीं होतीं हैं, कार चलाते वक्त भी एक हाथ में स्टेरिंग रहेगा और एक हाथ में मोबाईल और जब गियर बदलना होता है तो मोबाईल को कान और कंधों के बीच दबा लेते हैं, ऐसा लगता है जैसे कि उनकी गर्दन को किसी ने जोर से दबाकर कंधे से लगा दिया हो, मैंने अधिकतर ही कार चलाते हुए स्त्रियों को मोबाईल का उपयोग करते हुए देखा है, और कार की तेज रफ्तार को पाने के लिये बेचारे एक्सीलेटर को बेरहमी से कुचलते हुए भी…
लाल बत्ती पर सोचता हुआ व्यक्ति
    ओह बात जहाँ से शुरू हुई वह तो पूरी हुई ही नहीं, उस खाली जगह में एक मैडम जी अपनी बिल्कुल नई चमचमाती हुई गाड़ी घुसाने की असफल सी कोशिश में लगी हुईं थीं, उनके स्टेरिंग को सँभालने के तरीके से ही पता चल रहा था कि अभी नई नई चालक हैं और कुछ भी कर सकती हैं, हम अपने बैकमिरर से उनकी नाकाम कोशिश देख ही रहे थे, हम उन्हें चाहकर भी जगह नहीं दे सकते थे क्योंकि हमारी गाड़ी भी फँसी हुई खड़ी थी और कोई आगे करने की गुँजाईश भी नहीं थी, तभी बगल से आवाज आई तो देखा कि उन मैडम ने हमारी खड़ी कार में आगे आने के चक्कर में खरोंचे मार दी हैं, जो कि हमको साईज मिरर से दिख रहा था, और वो मैडम अब अपनी चालक सीट पर से उचक उचक कर हमारी कार पर आई खरोंच देखने की कोशिश कर रही थीं, हम अपने दिमाग को शांत करने की पूरी कोशिश कर रहे थे, गुस्सा तो बहुत जोर का आ रहा था परंतु सोचा कि गुस्सा करके हासिल क्या होगा, और हम अपनी सीट बेल्ट को हथकढ़ी मानकर जकड़कर बैठ गये।
    
    दरअसल हमारे एक पारिवारिक मित्र हैं, जो कि आगरा में रहते हैं और वे डॉक्टर दंपत्ति हैं, अभी हाल ही में जब हम आगरा गये थे तब उनसे मिलने जाना हुआ, अपने व्यस्त जीवन से कुछ समय उन्होंने हमारे लिये निकाला, और खूब बातें हुईं, तब उनकी यह नसीहत हमें बहुत अच्छी लगी कि कार में कोई टक्कर मार जाये तो भी चुपचाप बैठे रहो, क्योंकि हमें पता नहीं कि दूसरा किस मूड में हो और क्या आदमी है, पता चला कि मारपीट में अपना ही नुक्सान हो गया, चलो सामने वाले से कोई मारपीट न हो, झगडा ही हो गया तो अपने दस मिनिट भी खराब हुए और पता चला कि अपना रक्तचाप भी बढ़ गया तो वही अपना नुक्सान हो गया, यह डर नहीं समझदारी है ।

5 thoughts on “झगड़ा न करना डर नहीं, समझदारी है (Don’t Fight, its understanding not fear)

  1. सही सलाह ….कम से कम हम तनाव तो नहीं साथ लेकर चलते ….. ये बेचारे लोग !!! कितने लाचार होते हैं !!! आपने हथकड़ी लगाई हम शरबत बना कर पी लेते हैं ….

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *