दौड़ते रहें, स्वस्थ्य रहें, सुखी रहें

कल Neeraj Jat के फेसबुक स्टेटस पर आदरणीय Satish Saxena जी ने बताया था कि कैसे दौड़ना शुरू करना है, वॉक रन वॉक रन और कौन कौन से दिन करना है, शनिवार या रविवार को 8 किमी या उससे अधिक करना सुझाया था, कल बरसात भी थी, ठंड भी थी, और रजाई भी थी, तो हम आलस कर गये। आज सुबह मौसम बढ़िया था, सुबह उठकर निकल लिये कम से कम 8 किमी दौड़ने का इरादा था, परंतु स्वेटशर्ट पहनकर दौड़ने से 8 किमी पूरा नहीं कर पाये, स्वेटशर्ट पूरी गीली हो गई और इतनी भारी शर्ट पहनकर दौड़ना बहुत मुश्किल लग रहा था, तो जैसे तैसे 6.8 किमी दौड़ लगभग 48 मिनिट में पूरी की और घर आ गये। एवरेज फिर भी 7.10 मिनिट किमी का रहा, जो कि ठीक ही है।

मैं हर पहले दो किमी के बाद थोड़ा पानी जरूर पी लेता हूँ, अपनी पानी की बोतल मैं अपने घर के नीचे ही साईकिल के बॉटल स्टैंड में लगा जाता हूँ, जिससे घर में घुसने की जरूरत नहीं और कोई आलस नहीं, क्योंकि एक बार घर में घुसे तो फिर बाहर निकलना बहुत ही मुश्किल होता है, और उसके 2 किमी के बाद थोड़ा पानी और साथ में ग्लूकोवीटा की एक गोली खा लेता हूँ, जो कि डिहाईड्रेशन के लिये होती है, जितना पसीना हमारे शरीर से निकल जाता है तो हमारे शरीर को ऊर्जा मिलती रहे। ग्लूकोवीटा का हमें भाई Ashish Shrivastava जी ने ज्ञान दिया था, पहले हम गैटोरेड लेते थे, पर उससे कहीं बेहतर ग्लूकोवीट लगा। जेब में छोटी सी डिब्बी रख लो, रखने में भी आसान, गेटोरेड की बॉटल से छुटकारा मिल गया।

बस दौड़ने के बाद थोड़ा कूलडाऊन व्यायाम भी करना चाहिये और कम से कम एक केला या कुछ और खा लेना चाहिये, जिससे शरीर को एकदम ऊर्जा मिल जाये और एक घंटे के भीतर नहा लेना अच्छा होता है।

आज जब स्ट्रॉवा पर देखा तो अभी तक हमने 369 किमी दौड़ लगाई है, निश्चय किया है कि 31 दिसंबर तक 500 किमी का लक्ष्य पूरा करना है, तो अभी 130 किमी बचे हुए दिसंबर में दौड़ना है, याने कि अगर 20 दिन भी दिसंबर में दौड़ लगाई तो लगभग 6.5 किमी 20 दिन दौड़ना है।

मैंने दौड़ने के लिये मेरी ही कॉलोनी में एक राऊँड निश्चित किया हुआ है जो कि लगभग 1 किमी का होता है और जितने किमी दौड़ना होता है उतने चक्कर लगा लेते हैं, केवल समय गूगल फिट से देखते हैं। स्ट्रॉवा एप कभी दौड़ने की एक्टिविटी को रिकार्ड करता है कभी नहीं, खैर आज भी स्ट्रॉवा ने रिकार्ड नहीं किया, तो हम गूगल फिट एप के भरोसे रहते हैं, आज तो गूगल फिट भी सही नहीं चल रहा था, लगता है कि आज जीपीएस की ही कोई समस्या थी।

मैं अक्सर दौड़ते समय पॉडकॉस्ट सुनता हूँ, जिसमें से अधिकतर निवेश और नये अविष्कारों से संबंधित होते हैं, अभी अभी नयी फिल्मों और गायकों की कहानी का एक पॉडकॉस्ट भी सुनना शुरू किया है, हालांकि मेरी पसंद नहीं है, परंतु फिर भी सुन रहा हूँ, अभी हाल ही में लिनार्ड कोहन की बातचीत सुनी थी, उनके कई गाने मुझे पसंद भी आये, और अभी उनका देहांत 82 वर्ष की उम्र में हुआ। मुझे उनका एक गाना बेहद पसंद आया Everybody Knows।

दौड़ते रहें, स्वस्थ्य रहें, सुखी रहें।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *