विष्णु प्रभाकर का प्रेम पत्र अपनी पत्नी सुशीला के लिये

 प्रेम पत्र बहुत पढ़े लिखे हैं आज विष्णु प्रभाकर की किताब पंखहीन पढ़ते हुए उनका एक प्रेम पत्र मिला जिसे उन्होंने अपनी पत्नी सुशीला को लिखा है –

रानी
    सोचता हूँ जो हुआ क्या वह सत्य है ? सवेरे उठा तो जान पड़ा जैसे स्वप्न देखा हो।  लेकिन आँखे जो खोलीं तो प्रकाश ने उस सारे स्वप्न को सत्य के रूप में प्रत्यक्ष कर दिखाया। अब भी कभी कभी हृदय में कोई सुना जाता है – जिसे तुम स्वप्न कहते हो वह स्वप्न का पार्थिव रूप है।  मैं उसे भूल ने सकूँगा ।
    प्रिय! रात 9-27 पर जब मैं हिसार पहुँचा तो तुम स्टेशन पर जाने के लिए तैयार हो रही होगी। शायद तुमको मेरा ध्यान भी होगा। मैं न जाने कितनी बार चौंक पड़ा था। ऐसा मालूम हुआ जैसे तुमने आकर मेरे वक्षस्थल पर अपना सर टिका दिया है। मेरे दोनों हाथ धीरे धीरे ऊपर उठे लेकिन सुशीला! वहाँ कौन था। अपनी छाती को दबाकर ही मैं काँप उठा।
    भद्रे अब 6.38 का समय है। तुम अपने घर के बहुत करीब पहुँच रही होगी। तुम्हें रह-रहकर अपने माँ-बाप और बहिन से मिलने की खुशी हो रही होगी लेकिन रानी! मेरा जी भर रहा है। आँसू रास्ता टटोल रहे हैं। इस सुने आँगन में मैं अकेला बैठा हूँ। ग्यारह दिन में घर की क्या हालत हुई वह देखते ही बनती है। कमरे में एक-एक अंगुल गर्दा जमा है। पुस्तकें निराश्रित पत्नी-सी अलस-उदास जहाँ-तहाँ बिखरी हैं। अभी-अभी कपड़े सम्भाल कर तुम्हें खत लिखने बैठा हूँ परन्तु कलम चलती नहीं। दो शब्द लिखता हूँ और मन उमड़ पड़ता है। काश! तुम मेरे कन्धे पर सिर रखकर बैठी होती और मैं लिखता चला जाता पृष्ठ पर पृष्ठ। लो रानी पृष्ठ लिखने में 15 मिनिट समाप्त हो गए। एक बच्चा अभी अभी मेरे पास आ बैठा है पर वह पढ़ना नहीं जानता। इसी से बेखबर मैं लिख रहा हूँ। होल्डर भी नया है। रुकता है। क्या करुँ देवी ? इतनी उद्विग्नता मुझे रुचती नहीं।
    रानी! चलते समय तुमने कहा था कि तुम में जो त्रुटियाँ मैंने देखी हों वे लिख दूँ। प्रिये! कमी संसार के प्रत्येक प्राणी में है। पूर्ण तो केवल वही एक है। तो भी हम अपनी कमी को और उसके कारण को जानें तो जीवन की दुरुहता बहुत कुछ कम हो जाती है। तुम्हारा यह विचार सुन्दर है।  परमेश्वर करे तुम इन भावों को बनाये रखो। लेकिन त्रुटियाँ मैं क्यों लिखूँ, यह भी मैं नहीं समझता। उनको जानना भी तुम्हारा काम है। देवी! हृदय का मंथन करो तो रस पाओगी। जीवन का मंथन करो तो उसकी दोनों साइड्स तुम्हारे सामने होंगी।
    एक बात कह दूँ प्रियेमुझे स्टडी करना बहुत कठिन है|  इस क्षण मैं कायर जान पड़ता हूँ दुसरे ही क्षण मेरी भावना सबको पराजित कर चलती है। तुमने सुना होगा इस विवाह के बाद मुझे लोगों ने कायर ही कहा है। उनका दोष भी क्या है ? पिछले सात साल से मैं बार-बार विद्रोह करता आ रहा था।  अब एकदम उस सबमिशन से ने चौंके तो ठीक ही है। मुझे कोई नहीँ जानता। तुम भी, मुझे डर है न जाने सकोगी । यही शंका है जिसे मैं कभी-कभी वे बातें कह देता हूँ जिससे तुम्हें दुख हुआ होगा। मैं अब भी कहता हूँ कि मेरा विवाह नहीँ होता तो ज्यादा ठीक था। तुम्हारे प्रति मुझे कोई शिकायत अभी क्या हो
सकती है
?  फिर भी रानी! मुझे नजदीक से पढ़ो। सहानुभूति से पढ़ो। मुझसे कुछ न कहलवाओ। आप ही सोच समझ कर काम कर लो तो ठीक है। नहीं तो ये दुनिया है। कलह, असफलता और पीड़ा सब हम-तुम पावेंगे।
     पीड़ा में भी मुझे सुख होगा। पर तुम नष्ट हो जाओगी। समझती हो न शीला। मैंने जन्म से लेकर आज तक दुख और पीड़ा को अपना साथी बनाये रखा है। अब भी नहीँ डरुंगा लेकिन मेरे किसी अपराध का दर्द तुम पाओ यह मेरी दृष्टि में सबसे बड़ा पाप है। पाप से मुझे प्रेम है लेकिन वह मुझे मिले, तुम्हें नहीँ। किसी से घबराना मत रानी!
    ओह रानी! क्या तुम डर गईं? नहीं, नहीं, श्रद्धा और विश्वास को तुम भूलो मत। ऐसा करो ये दोनोँ तत्व कभी भी हमारे  साथ न छोड़ें। जिस दिन श्रद्धा तुम खो दोगी उसी दिन तुम्हारा पतन आरम्भ हो जाएगा ।
    मेरी रानी! क्या तुम सच ही मुझसे प्रेम करती हो ? इसका उत्तर खूब शान्ति से जब तुम – 1. अपने माता-पिता के घर में खूब व्यस्त हो। 2. भाई-बहिन घुल-मिलकर बातें कर रे हैं. 3. अपनी सखी के सौभाग्य पर कोई चर्चा चल रही हो या तुम बिलकुल एकान्त में बैठी हो तब सोचना, मैं दावे से कहता हूँ उत्तर तुम्हें मिलेगा। सच-सच लिख देना। उसी एक प्रश्नोत्तर पर सारा जीवन निर्भर रहेगा।  सत्य के लिये साहस की जरूरत है। मैं तुमसे एक ही प्रार्थना करता हूँ रानी! कभी भी कोई बात मुझसे छिपाना मत । मेरे हृदय की अधिष्ठात्री देवी, ऐसा तुम करोगी तो दुनिया तुम्हें सदा-सदा याद रखेगी।
    जानती हो प्रिये मैं एक निर्धन व्यक्ति हूँ। गरीबी मुझे मिली है यही बात नहीं, गरीबी मेरा व्रत भी है। (शीला) इसे तुम्हें सदा
याद रखना है। यदि निर्धनता से प्रेम न हो, यदि आवश्यकता पड़ने पर मेरे साथ कन्धे-से-कन्धा मिलाकर, भूखे-प्यासे रहकर तुम खेत में काम करने की शक्ति न रखती हो तो तुम मुझसे कह देना। अपने मन को दुखी मत करना। तब मैं तुम्हारी व्यवस्था कर दूँगा। लेकिन कहता हूँ यह सब ठीक न होगा। क्या तुम समझी मेरी रानी सोचोगी कि माँ-बाप ने क्या सोचकर ऐसे व्यक्ति से मेरा पल्ला बाँधा। मैं भी कहता हूँ यह तुम्हारा दुर्भाग्य ही है। तुम्हारा ही क्या, न जाने कितनी लड़कियाँ इस दुर्भाग्य का शिकार हो जाती हैं। तुम भी उन्हीं सें से एक हो लेकिन अब इस दुर्भाग्य को सौभाग्य में पलट सको तो क्या होगा
जानती हो ?
    शीला रानी 7-10 का टाइम है। तुम घर पहुँच गई होगी। बड़े प्रेम से आँखों में आँशू भर कर अपने गुरुजनों, परिजनों और मित्रजनों से मिल रही होगी। आँसुओं की दो बूंदे मेरे लिए भी बचा रखना । क्यों..
    और क्या लिखूँ ? तुम्हैं लिखना भी क्या समाप्त होगा उसकी सीमा मैंने नहीं देखी। परन्तु शीला-सेवा में जो शक्ति हो वह इस भावुकता में नहीं है। प्रेम प्रतिदान चाहता है नहीं मिलता है तो वह प्रतिशोध लेता है।  मित्रों के बीच में जब शंका पैदा हो जाती है तो वे सबे बड़े दुश्मन बन जाते हैं। मेरा मन अब उचट रहा है प्रिये लिख नहीं सकता। जीवन में पहली बार ही तो ऐसा पत्र लिखा है, इससे झिझक भी तो है, कहीं तुम कह न बैठो एक अपरिचित को ऐसा पत्र तुम कैसे लिख सके। शीला, क्या हम अपरिचित हैं? बताओगी प्रिये!
    मेरी रानी! मैं चाहता हूँ तुम्हें बिल्कुल भूल जाऊँ। समझूँ तुम बहुत बदसूरत, फूहड़ और शरारती लड़की हो। मेरा-तुम्हारा कोई सम्बन्ध नहीं । लेकिन विद्रोह तो और भी आसक्ति पैदा करता है। तब क्या करूँ? मुझे डर लगता है। मुझे उबार लो नहीं तो पतन के उस खड्ड में जा गिरूँगा जहाँ किसी को मेरी किरच भी ढ़ूँढ़े न मिलेगी।
    शीला देवी! सुनना चाहती हो तो सुन लो, तुम मेरी हो, मैं तुम्हें प्रेम करता हूँ… लेकिन नहीं, मैं बिल्कुल भी प्रेम करना
नहीं चाहता। यह पूरुष है चो नारी की अपूर्णता मिलाकर सम्पूर्ण बन जाना चाहता है। बोलो प्रिये
! क्या तुम उसे अपने नजदीक आने दोगी या ठुकरा दोगी।
    आज्ञा तो रानी मैं अब उठूँ। स्नान और भोजन की व्यवस्था करनी है। पानी आ गया है। भोजन के लिए भूख नहीं। बस ठीक है।
    कल तक कर्फ्यू आर्डर था परन्तु मैं 10 बजे से पहले ही घर आ गया था। स्टेशन पर मामाजी और एक दो फ्रेंड आ गए थे। यहाँ गरमी काफी है, हाथ पसीने से तर हैं पर तुम्हारा खत बचाने के लिए एक और कागज रख लिया है। सोचता हूँ कल की तरह पंखा लेकर तुम मेरे पास बैठी होती।
    सुशीला! तुम्हारी बहुत-सी बातें मुझे आश्चर्य में डालने वाली हैं। कभी-कभी तुम उतना संयम धारण करती हो कि बस हद है। कभी-कभी इतनी भोली जान पड़ती हो कि देवी के समान। कभी-कभी इतनी चंचल हो उठती हो कि मैं घबरा गया और कभी इतनी चतुर कि मैं तुमसे डरने लगा हूँ। शायद वैसे ही मैं कहता हूँ रानी! ये सब भावनाएँ हैं जो तुमसे मैं छिपाऊँगा नहीं पर इसका मतलब यह नहीं कि तुम डरो या रोओ। ऊँहूँ, केवल अपने को जानो। जिसने अपने को जाना उसने जग जाना।
    और रानी! उपदेश समझो या याचना; एक बात याद रखो अपने मत पर दृढ़ रहो और दूसरों के प्रति विनयी।
    अच्छा तुम्हारी जय बनी रहे रानी! भिखारी को दरवाजे से कोरा न लौटा देना। कुछ न दे सको तो दया-दृष्टि से देख-भर लेना जिससे उसकी सूखी हड्डियों में रक्तकण चमक आएँगे और आगे बढ़ सकेगा।
    मेरे पत्रों को फाड़ना मत। अच्छा, सबको नमस्ते कहना और सरलाजी से कहना कि जीजी की याद में इतना रोना ठीक नहीं। लो होल्डर की स्याही खत्म हुई। विदा, रानी। अनेक प्रेम-चुम्बनों के साथ विदा।
तुम
अगर बना सको तो तुम्हारा ही
विष्णु
और
भी
कैलाश
ने तुम्हें पुस्तक दी होगी। विवाह-सम्बन्धी सब बातें समझकर पढ़ लेना।
विष्णु

5 thoughts on “विष्णु प्रभाकर का प्रेम पत्र अपनी पत्नी सुशीला के लिये

  1. सार्थक प्रस्तुति।

    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (15-02-2015) को "कुछ गीत अधूरे रहने दो…" (चर्चा अंक-1890) पर भी होगी।

    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।

    पाश्चात्य प्रेमदिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ…
    सादर…!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

  2. एक व्यक्ति को करीब से जानने का माध्यम है उसके पत्र…और प्रेम पत्र तो सीधा दिल से संवाद करता है…प्रभाकर जी का यह पत्र साझा करने के लिए धन्यवाद…

  3. धन्यवाद यह विष्णुप्रभाकर जी का प्रेम पत्र हमसे शेअर करने के लियो।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *