ब्लॉगिंग की शुरूआत के अनुभव (भाग १)

    बरसों बीत गये इस बात को पर आज भी ऐसा लगता है कि सारे परिदृश्य बस अभी बीते हैं, किसी चलचित्र की भांति आँखों के सामने चल रहे हैं, जब मुझे घर पर 486 DX2 जेनिथ कंपनी का कम्प्यूटर घर पर दिला दिया गया था, जिसका मुख्य उद्देश्य था, अपनी क्षमताओं को अच्छी तरह से परखना और निखारना।
    साथ ही उस समय कम्प्यूटर घर पर होना बहुत ही विलासिता की बात मानी जाती थी, तो खाली समय का सदुपयोग हमने प्रोजेक्ट वर्क के जरिये कमाने के लिये भी करना फ़ैसला किया था, जिसमें जन्म कुँडली, हिन्दी एवं अंग्रेजी में थिसिस और भी बहुत सारे कार्य जो उस समय विन्डोज ३.११ पर कर सकते थे। विन्डोज ९५ उस समय बस बाजार में आया ही था, पर हमारे पास केवल ५१२ एम.बी. रेम थी, जिस पर विन्डोज ९५ रो धोकर चल जाता था, पर हाँ रेड हैट लाईनिक्स जबरदस्त चलता था। इसी काल में हमने अक्षर हिन्दी का वर्डस्टार जैसा टूल था, इस्तेमाल करना शुरू किया और हिन्दी की टायपिंग का जबरदस्त किया, फ़िर कृतिदेव वगैराह फ़ोन्ट में विन्डोज में टायपिंग भी करी।
    घर पर इन्टरनेट नहीं था, तो मित्रों का सहारा था, जिन मित्रों के पास इन्टरनेट होता था, उनके पास जाकर याहू, लायकोस और ईमेल.कॉम खोलकर कुछ सीखने की कोशिश करते थे, हालांकि उस दौर में क्या सीखना है, कैसे सीखना है, यह बताने वाला भी कोई नहीं था, बस इतना पता था कि अपना ईमेल अकाऊँट होना बहुत जरूरी है। तो लगभग सारे ईमेल प्रदाताओं पर हमारे ईमेल अकाऊँट हैं। और वही सारे अकाऊँट अधिकतर हमारे पास हैं, पर अब जो अधिकतर उपयोग करते हैं वह है जीमेल, जो कि काफ़ी बाद में आया और हॉटमेल, याहू, यूएसए.नेट, इंडियाटाईम्स, इन्डिया.कॉम जैसे प्रदाताओं को पानी पिला दिया।
    इस समय तक हमें ब्लॉगिंग की ए बी सी डी भी पता नहीं थी, और यह बात है १९९५-१९९७ के बीच की । तब हम कम्प्य़ूटर का अधिकतम उपयोग प्रोग्रामिंग, अकाऊँटिंग, खेलने या टायपिंग के लिये ही किया करते थे, उस समय पता ही नहीं था कि किसी वेबसाईट पर लिखा भी जा सकता है, अपने विचार छापे भी जा सकते हैं।
    कुछ वर्ष बाद हमें पता चला कि हिन्दी का इन्टरनेट पर बहुत उपयोग हो रहा है, एक बैंक के अधिकारी थे, जो रोज अपनी शाम सायबर कैफ़े में रंगीन करने जाते थे, हम इसी कारण उनसे थोड़ा दूर ही रहते थे। और वो हमें रोज ही पकड़ने की कोशिश करते थे, कि कुछ अच्छी सी वेबसाईट दिखा दो, कुछ सिखा दो, हम कुछ ना कुछ बहाना बनाकर खिसक लेते थे, एक दिन उनसे बातें हो रही थीं, तो बैंक के मैनेजर बोले अरे यार तुम बंदे की पूरी बात तो सुन लो, कुछ नई चीज सीखना चाहता है, समझना चाहता है, तो हम उनके साथ सायबर कैफ़े में जाने को राजी हुए, क्योंकि सायबर कैफ़े भी हमारे दोस्त का ही था, तो थोड़ा अजीब लगता था । तब उन्होंने हमें बताया कि इन्टरनेट पर हिन्दी कैसे लिखी जाती है, हमें लगा यह बंदा क्या मजाक कर रहा है । बोला कि चलो हम तुमको हिन्दी में लिखा हुआ दिखाते हैं, हमने देखा तो मुँह खुला रह गया, जैसे हमने दुनिया का आठवां आश्चर्य देख लिया हो। अब उनकी जिज्ञासा यह थी कि हिन्दी में लिखते कैसे हैं और वेबसाईट पर कैसे डालते हैं, इस समय तक हमारे घर पर इन्टरनेट आ चुका था। पर इन्टरनेट बहुत मंद गति से चलता था।
जारी..

8 thoughts on “ब्लॉगिंग की शुरूआत के अनुभव (भाग १)

  1. इतिहास का हिस्‍सा होकर इतिहास बनते देखना रोमांचकारी होता है। सूचना प्रौद्योगिकी के इतिहास के साथ हमारे ऐसे ही रोमांचकारी अनुभव जुड़े हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *