साइड अपर के लोचे और स्लीपर में ठंड को रोकने का इंतजाम

आज फ़िर से साइड अपर सीट मिली है, हालांकि आज 3AC में टिकट करवा रखा है, परंतु फ़िर भी ये साइड अपर का साईज अपने हिसाब से नहीं है । आरक्षण के समय व्यक्ति की उम्र के साथ ही उसकी लंबाई भी जरूर लिखवा लेनी चाहिये जिससे कम से कम कूपे के बीच की बर्थ मिल जाये । और प्रोग्राम में भी सैट कर देना चाहिये कि इतनी लंबाई से ज्यादा व्यक्ति को साइड की सीट नहीं दी जायेगी ।
 
पैसे भी पूरे दो और ढंग से पैर भी नहीं मुड़ते., ऐसा लगता है कि पूरी रात हमने डरे सहमे निकाल दी है, क्योंकि घुटने मोड़ के सोना पड़ता है और घुटने मोड़ के सोने का मतलब यह होता है कि उस व्यक्ति को डर लग रहा है ।ऊपर चढ़ने के बाद ऐसा लगता है कि जैसे सर्कस के पिंजरे में बंद कर दिया है और सामने के ६ लोग अब उसे देख रहे हैं ।
 
वो तो लालू का बस ज्यादा नहीं चला जो उसने केवल साइड में केवल तीन सीट ही लगवाई थीं, अगर उसका दिमाग ज्यादा तेज चलता तो, ड्राअर जैसी सीटें बनवा देता, ड्राअर खोलो सोओ और ड्राअर अंदर, फ़िर तीन क्या चार या पाँच सीट लग जातीं ।
 
वैसे तो अधिकतर वृद्ध लोगों को ऊपर की बर्थ में जाने पर परेशानी होती है, परंतु ठंड के दिनों में यही वयोवृद्ध स्लीपर कोच में कैसे फ़ुर्ती से ऊपर की बर्थ पर चढ़ जाते हैं और उस समय इनकी फ़ुर्ती देखने लायक होती है, और जब ऊपर चढ़ जाते हैं, तो जो विजयू मुस्कान इनके चेहरे पर होटी है वह देखने लायक होती है। हमने ऐसी पता नहीं कितनी ही यात्राएँ की हैं जिसमें हमें ठंड के दिनों में नीचे की बर्थ मिली और जब भी कोई वृद्ध आता तो लगता कि शायद अब हमसे कहेगा कि ये ऊपर वाली बर्थ पर आप चले जायें, पर कभी किसी ने ठंड के दिनों में नहीं बोला, फ़िर हम खुद ही सोचते कि हम बोल देते हैं, पहली बार बोला भी तो वे सज्जन अपने परिवार के साथ थे, बोले कि देखते नहीं कितनी ठंड है, अब कौन सा हमने रात भर उठना है, अब तो सुबह ही बर्थ से उतरना है। बस उस दिन के बाद से हम अपनी तरफ़ से कभी भी किसी सज्जन को नीचे की बर्थ देने के लिये नहीं बोल पाते हैं।
 
जिस रूट पर यात्रा करते थे उसमें 3AC का कोच नहीं लगता था, और अगर कभी लग भी गया तो केवल एक ही लगता था हमने भी उसी दौरान एक तकनीक ईजाद की, स्लीपर कोच के लिये, स्लीपर कोच में ठंड में सबसे बड़ी समस्या होती है कि उसकी खिड़कियाँ आप कितनी भी अच्छी तरह से बंद कर लो हवा जाने कहाँ से रिस रिस कर आती है, और नीचे वाले बंदे की कुँकड़ू कूँ हो जाती है, और जिसको साद्ड की सीट वाले को तो दो दो खिड़की की हवा खानी पड़ती है,  अपने साथ पकिंग के लिये उपयोग होने वाला दो इंच का चिपकने वाला टेप लेकर चलने लगे, और जब भी नीचे की सीट मिलती या साइड की नीचे वाली सीट मिलती तो पहले खिड़की लगाते और फ़िर उस पर चारों तरफ़ से अपनी पकिंग वाली टेप अच्छे से लगा देते, बस हवा का नामोनिशान गायब हो जाता, और मजे में सोते हुए जाते थे। सुबह उठाकर टेप निकालकर फ़ेंक देते। बाकी सारे नीचे की सीट वाले कातर भाव से हमारी और देख रहे होते थे, वैसे जब भी किसी ने कहा तो हमने उसकी हमेशा टेप लगाकर मदद की।

वो सही ही कहते हैं आवश्यकता ही अविष्कार की जननी है ।

4 thoughts on “साइड अपर के लोचे और स्लीपर में ठंड को रोकने का इंतजाम

  1. आईडिया जनाब अब कभी स्लीपर में जाने की जरूरत पड़ी तो आपका फार्मुल्ला काम लेंगे.

  2. वाह क्‍या आइडिया है। भारत सरकार को भी यह आइडिया दो ताकि यात्रियों को टीटी जब टिकट चैक करने आए तो टेप दे दें। या किसी हॉकर को आइडिया दे देना जैसे पेपर सोप मिलता है वैसे टेप बिकने लगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *