मुंबई के ब्लॉगर बंधु ध्यान दें – ब्लॉग मीटिंग के लिये आज मेरी बात अविनाश वाचस्पति जी से हुई …

आज मेरी बात अविनाश वाचस्पति जी से हुई, वे शनिवार ५ दिसंबर को मुंबई पहुँच रहे हैं। मुझे हालांकि लगभग ४ वर्ष मुंबई में रहते हुए हो गये हैं परंतु किसी भी मुंबई के ब्लॉगर से मुलाकात नहीं हुई है या यह कह सकते हैं कि कभी कोशिश नहीं की, पर अब अविनाश जी आ […]
Continue reading…

 

मेरी तस्वीर जो केवल मेरे मन के आईने में नजर आती है….मेरी कविता ….. विवेक

मेरी तस्वीर जो केवल, मेरे मन के आईने में नजर आती है, दुनिया को कुछ ओर दिखता है, पर अंदर कुछ ओर छिपा होता है, मेरा स्वरुप पारदर्शी है, पर आईने को सब पता होता है, जैसा मैं हूँ वैसा मैं , तत्व दुनिया को दिखाता नहीं हूँ, आईना आईना होता है, पर वो अंतरतम […]
Continue reading…

 

आज मन धीर है, गंभीर है…… मेरी कविता…..विवेक

आज मन धीर है, गंभीर है, भविष्य के गर्भ में, क्या है, वो जानने के लिये, अधीर है, कोई चिंता नहीं है, फ़िर भी, बहुत ही बैचेन है, जाने क्यों, जिंदगी की धार में, बहते हुए, जिंदगी की धार पर, चलते हुए, आज मन धीर है, गंभीर है।
Continue reading…

 

क्या आपने कभी गूगल की ट्रांसलेटेड सर्च(अनुवादित खोज, 翻译搜索) का उपयोग किया है, दूसरी भाषाओं में लिखा गया अपनी भाषा में पढ़ें…

     मैं अक्सर गूगल की ट्रांसलेटेड सर्च का उपयोग करता हूँ। बहुत ही काम की चीज है यह, आप लोग शायद गूगल ट्रांसलेट के बारे में तो जानते ही होंगे जिसमें आप कोई भी टेक्सट को कापी करके वहाँ मनचाही भाषा में उसका ट्रांसलेशन देख सकते हैं, पहले इसके लिये ट्रांसलेट का बटन दबाना होता था, […]
Continue reading…

 

हाँ तुमने आकर, मेरी जिंदगी सँवार दी है …

तुमने मेरे अंदर, प्रेम पल्लवित किया है, तुमने मेरे अंदर्, ऊष्मा भर दी है तुमने जिंदगी को नये, तरीके से जीना सिखाया है हाँ तुमने आकर, मेरी जिंदगी सँवार दी है अब तुम, मुझसे अलग नहीं हो, तुम मुझमें इस तरह, सम्मिलित हो गयी हो इसलिये तुम्हरा, अहसास ही नहीं होता अहसास तो उसका होता, […]
Continue reading…

 

खबरों का जिक्र जिसमें २६/११, गूगल, सुखोई, हार्मोन हैं सफ़ल शेयर ट्रेडर बनने का राज और एक महिला मलेशिया में मुस्लिम से हिन्दु धर्म परिवर्तन करना चाहती है पर बहुत मुश्किल राहें हैं..

     आज सुबह सोच रहा था कि क्या लिखूँ, फ़िर बिस्तर से उठने के पहले ही एक अभिव्यक्ति आ गई जो कि मैंने कविता के रुप में अभिव्यक्त कर दी। फ़िर अखबार पढ़ रहा था, तो वही कल का टाईम्स ऑफ़ इंडिया देखा, तो पाया कि इन्होंने प्रिंट मीडिया से २६/११ का अनूठा विरोध किया […]
Continue reading…

 

लगभग १० साल बाद वापिस से कविता लिखी है, “इंतजार है उस दिन का”… इंतजार है आपकी प्रतिक्रियाओं का

इंतजार है उस दिन का जब तुम अपनी बाँहों मॆं भरकर मुझे गर्मजोशी से प्यार से दिल से मन से मुझे अलसुबह उनींदे बिस्तर से उठाओगी, और हल्के से कहोगी प्रिये सुप्रभात, तुम्हारे लिये मैंने नई दुनिया गढ़ी है वो तुम्हारा इंतजार कर रही है…
Continue reading…

 

क्या आप रोज दाढ़ी बनाते हैं या फ़िर कभी कभी.. ये आपके व्यक्तित्व को प्रभावित करती है..

   जो व्यक्ति रोज दाढ़ी बनाते हैं उनमें दूसरे को प्रभावित करने की क्षमता ज्यादा होती है बनस्बत उनके जो कि कभी कभी दाढ़ी बनाते हैं। एक तो क्लीन शेव होने से व्यक्ति अच्छा साफ़ सुथरा दिखने लगता है मतलब क्लीन शेव। जब भी वह आईना देखता है तो उसे अपने आप पर अभिमान होता […]
Continue reading…

 

IRCTC.CO.IN के साथ आज सुबह का हमारा बहुत बुरा अनुभव – किसे शिकायत करें इनके पास इन्फ़्रास्ट्रक्चर ना होने की…

     आज सुबह सात पचपन से ही हम irctc पर हम तत्काल का रिजर्वेशन करवाने के लिये बैठ गये और क्विक बुक विकल्प से हम जाते हैं क्योंकि वहाँ से सीधे पेमेन्ट गेटवे पर जा सकते हैं। पर जैसे ही आठ बजे  irctc  की साईट Service Unavailable का बोर्ड दिखाने लगी, हम परेशान कि हमें […]
Continue reading…

 

ब्लॉगिंग के कीड़े के कारण अपने सारे कमिटमेंन्ट्स की वाट लग गई…

     ब्लॉगिंग के कीड़े ने ऐसा काटा है कि अपने सारे कमिटमेंन्ट्स की वाट लग गई है। कुछ दिन पहले जिम शुरु किया था मतलब दिवाली के एक महीने पहले तक तो हम सुबह या शाम कभी भी समय निकालकर चले जाया करते थे,  फ़िर एक महीने के लिये बीबी बच्चे उज्जैन चले गये तो […]
Continue reading…