टकलापुराण और टकले होने के फ़ायदे रोज ४० मिनिट की बचत

    पिछले महीने हम तिरुपति बालाजी दर्शन करके आये थे तो बालाजी को अपने बाल दे आये थे, और तब से हमने सोचा कि अब बस ऐसे ही रहेंगे मतलब गंजे याने कि टकले। पहले कुछ अजीब सा लगा पर अब सब साधारण सा लगने लगा है।     जब हम वापिस मुंबई आये और अपने […]
Continue reading…

 

जॉगर्स पार्क में सैर वाले सड़क पर आ गये और दयाल प्रभू का लेक्चर “Developing The Culture Of Blessings”

    हम सुबह की सैर करने वाले जो कि बगीचे में जाते थे, और बगीचे का नाम है जागर्स पार्क। रोज सुबह सुबह प्राकृतिक आनंद लेते हुए सैर किया करते थे पर अब बगीचा १० दिनों के लिये साज-सँभाल के लिये बंद है, अभी हाल ही में बगीचे में आजीबाबा पार्क बनाया गया है, मतलब केवल वृद्ध […]
Continue reading…

 

विद्रोह मेरे मन का, भड़क रहा है….. मेरी कविता….विवेक रस्तोगी

विद्रोह मेरे मन का, भड़क रहा है, चिंगारियों से, आग निकल रही है, मेरे मन के, मेरे दिल के, कुछ जज्बात हैं, जो दबे हुए हैं, कहीं किसी चिंगारी में, और जो, हवा के रुख का, इंतजार कर रहे हैं, और वहीं कहीं, रुख हवा का, हमसे बेरुखी कर चुका है, पर… विद्रोह मेरे मन […]
Continue reading…

 

डैडी जल्दी घर पर चाहिये तो भगवान से प्रार्थना करो कि भगवान डैडी को जल्दी घर पर भेज दो..

    फ़िर चले अपने घर मुंबई, चैन्नई से वापिस शाम की फ़्लाईट है, सफ़र पर जाने के पहले पेट में जाने कैसा कैसा महसूस होता है, वह मैं अभी साफ़ साफ़ महसूस कर रहा हूँ, हाँ यात्रा रोमांचक होती है पर केवल तब जब आप कभी कभी यात्राएँ कर रहे होते हैं, परंतु अगर यात्राएँ […]
Continue reading…

 

मैं कहाँ कौन से, चक्रव्यूह में हूँ .. हे गिरधारी… मेरी कविता … विवेक रस्तोगी

मैं एक छोटा सा अदना सा इंसान, मुझसे कितनी उम्मीदें हैं, इस दुनिया को, खुद को, अपनों को, जिनका संबल हूँ मैं, और जो मेरे संबल हैं, रेत के महल खड़े करने की, रोज कोशिश करता हूँ, पर पूरा होने के पहले ही, भरभरा कर गिर जाता है, कब यह मेरा महल पूरा होगा, और […]
Continue reading…

 

सरदार के किस्से हमारी जबानी (कृप्या कोई और सरदार बुरा न माने)

अगर सरदार को ९४४९४९४४९४ डायल करना है .. .. तो वो क्या करेगा …..? पहले वो डायल करेगा ९४४९४ और फिर रिडायल करेगा …… …………………… एक सरदार के पिता का देहांत हो गया और वो जोर जोर से रो रहा था थोड़ी देर बाद वो और जोर जोर से रोने लगा दोस्त ने उससे पूछा […]
Continue reading…

 

वैदिक स्टाईल ऑफ़ मैनेजमेन्ट

आज सायंकालीन सैर के साथ हम सुन रहे थे गोविंद प्रभू का लेक्चर वैदिक स्टाईल ऑफ़ मैनेजमेन्ट। जिसमें उन्होंने क्षत्रिय और ब्राह्मण के गुण बताये हैं। आज फ़िर सायंकालीन सैर के लिये हम निकल पड़े मरीना बीच की ओर, फ़िर वहाँ समुद्र के किनारे लहरों को देखते हुए घूम रहे थे और जहाँ जनता थोड़ी […]
Continue reading…

 

सुबह की सैर, श्रीमद्भागवदम और गीता जी का ज्ञान …

    आज की सैर के लिये हम निकले तो थोड़ा समय ज्यादा हो गया था और हम सुन रहे थे द्वारकाधीश प्रभू का लेक्चर “Sanyas Means Krishna Centered Love”। रोज सुबह एक लेक्चर सुन लेते हैं जिससे कृष्णजी के प्रति अनुराग और गहरा होता जाता है और श्रीमद्भागवदम और गीता जी से कुछ सीखने को […]
Continue reading…

 

चैन्नई मरीना बीच पर सुबह की तफ़री और समुद्र के कुछ फ़ोटो..

वैसे तो आजकल सुबह शाम घूमना बहुत जरुरी हो गया है, क्योंकि अब घूमना भी मजबूरी है, पसीना बहाओ, जितना हो सके और अपना वजन कम करो, अब चैन्नई में हैं तो आज सुबह का घूमना हमने मरीना बीच जाना तय किया और कुछ फ़ोटो भी निकाले। सुबह लोग समुद्र के पानी में लहरों के […]
Continue reading…

 

“बाल टाक रे” बेवकूफ़ी है, पर फ़िर भी अच्छा है !!

आस्ट्रेलिया और भारत के बीच वानखेड़े स्टेडियम में क्रिकेट मैच चल रहा था, और वहीं बालकनी में बाल ठाकरे बैठ कर मैच का आनंद ले रहे थे और बहुत खुश थे कि यहाँ पर पाकिस्तानी खिलाड़ी नहीं खेल रहे हैं। अचानक सचिन तेंदुलकर ने मैक्ग्राथ की गेंद पर छक्का मर दिया, और गेंद सीधी बाल […]
Continue reading…