हमनाम ने ऋण लिया और HSBC एवं ABN AMRO RBS परेशान कर रही हैं हमें !!

    दो वर्ष पहले मैं मुंबई से बैंगलोर शिफ़्ट हुआ था, नयी कंपनी नया माहौल था, अपने सारे बैंको, क्रेडिट कार्ड और जितने भी जरूरी चीजें थीं सबके पते  भी बदलवाये, मोबाईल का नया पोस्टपैड कनेक्शन लिया। बस इसके बाद से एक परेशानी शुरू हो गई।     बैंगलोर शिफ़्ट हुए २ महीने ही हुए थे […]
Continue reading…

 

हम लोकतंत्र के ऊपर गर्व कब कर पायेंगे।

    जनता का गुस्सा उबल रहा है, जनता क्रोध में उफ़न रही है, पर हमारी सरकार है कि सो रही है । सरकार को जनता को गंभीरता से लेना कभी आया ही नहीं है, यह गुण इन्हें अंग्रेजों से विरासत में मिला है। शनिवार को जो भी कुछ विजय चौक और इंडिया गेट पर हुआ […]
Continue reading…

 

बैंगलोर पासपोर्ट की ऑनलाइन सेवा याने कि भ्रष्टाचार (Bangalore Passport online seva means Corruption)

    सरकार ने लगभग २ वर्ष पहले पासपोर्ट कार्यालय और पुलिस के भ्रष्टाचार से मुक्ति दिलवाते हुए, पासपोर्ट की प्रक्रिया ऑनलाइन की थी। मैंने खुद लगभग १.८ वर्ष पहले पासपोर्ट बनवाया था और इस प्रक्रिया का साक्षात अनुभव किया था। पासपोर्ट कार्यालय में केवल २ घंटे की अवधि में मेरा पूरा कार्य हो गया था, […]
Continue reading…

 

मैले मन, बेशर्मी की चादर, उच्चशिक्षितों से तो अनपढ़ अच्छॆ ?

    रोज सुबह अपने ऑफ़िस जाते समय एक जगह ट्रॉफ़िक ऐसा होता है, जहाँ कोई सिग्नल नहीं है, और मुख्य सड़क है । यह ट्रॉफ़िक जाम एक मुख्य सिग्नल से मात्र ५०-१०० मीटर दूर ही है, परंतु पुलिस के भी मात्र एक या दो जवान ही होते हैं जो शायद वह नियंत्रित नहीं कर सकते […]
Continue reading…

 

आचार्य चतुरसेन कृत “सोमनाथ” और मेरा दृष्टिकोण..

    आज आचार्य चतुरसेन कृत “सोमनाथ” उपन्यास खत्म हुआ, इस उपन्यास को पढ़ने के बाद कहीं ना कहीं मन और दिल आहत है, बैचेन है.. कैसे हमारे ही लोग जो कि केवल अपने कुछ स्वार्थों के लिये गद्दारी कर बैठे.. और आखिरकार जिन लोगों के लिये गद्दारी की गई, जिस वस्तु के लिये गद्दारी की […]
Continue reading…

 

आत्मसंकल्प या बलपूर्वक

किसी भी कार्य को करने के लिये संकल्प चाहिये होता है, अगर संकल्प नहीं होगा तो कार्य का पूर्ण होना तय नहीं माना जा सकता है। जब भी किसी कार्य की शुरूआत करनी होती है तो सभी लोग आत्मसंकल्पित होते हैं, कि कार्य को पूर्ण करने तक हम इसी उत्साह के साथ जुटे रहेंगे। परंतु […]
Continue reading…

 

सोमनाथ का एक वृत्तांत आज के परिप्रेक्ष्य में.. यदि कोई आततायी देव की अवज्ञा करेगा तो भारत उसे कभी सहन न करेगा

गंग सर्वज्ञ ने हँस कर कहा, “कुमार, यदि गजनी का सुलतान सोमपट्टन पर अभियान करे तो गुजरात का गौरव भंग होगा, यह तुम प्रथम ही से कैसे कहने लगे?  यदि वह अभियान करे तो गुजरात का गौरव बढ़े क्यों नहीं?” भीमदेव लज्जित हुए। उन्होंने कहा, “गुरूदेव, सोलह बार इस दैत्य ने तीस बरस से भारत […]
Continue reading…

 

जो स्कूल जाते हैं वे नौकरी करते हैं और जो कतराते हैं वे उन्हें नौकरी पर रखते हैं.. बेटेलाल से कुछ बातें..

    अभी बस बेटे को बस पर स्कूल के लिए छोड़ कर आ रहा हूँ, लगभग १० मिनिट बस स्टॉप पर खड़ा था, तो बेटेलाल से बात हो रही थीं।     कहने लगा कि मम्मी बोल रही थी कि कॉलेज में यूनिफ़ॉर्म नहीं होती, वहाँ तो कैसे भी रंग बिरंगे कपड़े पहन कर जा सकते […]
Continue reading…