"राष्ट्र हित में आप भी जुड़िये इस मुहिम से …"

सन 1945 मे नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की तथाकथित हवाई दुर्घटना या उनके जापानी सरकार के सहयोग से 1945 के बाद सोवियत रूस मे शरण लेने या बाद मे भारत मे उनके होने के बारे मे हमेशा ही सरकार की ओर से गोलमोल जवाब दिया गया है उन से जुड़ी हुई हर जानकारी को “राष्ट्र […]
Continue reading…

 

ट्रेड यूनियन पर एक संवाद फ़ेसबुक से

Vivek Rastogi Yesterday at 8:03am · ये हड़ताल अपने समझ में नहीं आती, ये सब लोग ज्यादा काम करके ज्यादा कमाई करवायें संस्थानों की फ़िर बोलें अब हमारा वेतन बढ़ाओ भत्ते बढ़ाओ Like · · Unfollow Post · Share · Promote Arpit Singh Pandya, Dhyanshree Shailesh Vyas and 2 others like this.   सिद्धार्थ जगन्नाथ […]
Continue reading…

 

दाम्पत्य जीवन के १२ सुनहरे वर्ष

जीवन निर्जीव था, बिल्कुल रेगिस्तान जैसा जहाँ आँधियाँ तो आती थीं, बबंडर तो आते थे, परंतु केवल रेत के, जहाँ कोई दूसरा उन उड़ती हुई रेत को नहीं देख पाता था, बस अकेला यह निर्जीव उन रेत के रेलों के बीच इधर से उधर बहता रहता था। ये रेत और रेगिस्तान बहुत लंपट होते हैं, […]
Continue reading…

 

जीवन की दो महत्वपूर्ण उपयोगी चीजें पानी और पेपर नेपकीन

    जब से देश के बाहर आना शुरू किया है तब से दो चीजों की महत्ता पता चल गई है, पहला पानी और दूसरा है पेपर नैपकीन । अपने भारत में तो कोई समस्या नहीं, पानी भी बहुत है और हाथ धो भी लिये तो अपने ही रूमाल से पोंछना पड़ते हैं, क्योंकि साधारणतया: पेपर […]
Continue reading…

 

वो भी क्या दिन थे..

वे दिन बीते हुए भी अभी बहुत ज्यादा समय नहीं हुआ है, जब न ये आधुनिक दूरसंचार के बेतार वाले उपकरण थे और न ही ये अंतर्जाल और आपस में बातचीत के लिये सुविधाएँ उपलब्ध थीं। अगर कहीं जाना भी होता था तो उस समय पहले से ही कार्यक्रम तय हो जाते थे और फ़िर […]
Continue reading…

 

भारतीय मानसिकता घाटे में बाहर निकलने की नहीं है

हाल ही में ऐसे बहुत सारे लोगों से मिलना हुआ जो कि शेयर बाजार की समझ नहीं रखते परंतु फ़िर भी शेयर बाजार में अपना निवेश कर बैठे थे, वह भी तब मतलब कि २००८ – २००९ जब बाजार अपनी उच्च अवस्था पर था। उस समय हालात यह थे कि जिसको कुछ पता नहीं था […]
Continue reading…

 

रात्रि का सफ़र और दिन भर नींद

    इस बार सफ़र कुछ जल्दी ही हो गया, केवल तीन दिन ही भारत में परिवार के साथ व्यतीत कर पाये थे कि तीसरे दिन की रात्रि को ही घर से निकलना था, क्योंकि सुबह ४.३० बजे की फ़्लाईट थी और अंतर्राष्ट्रीय यात्रा के लिये ३ घंटे पहले पहुँचना होता है, वैसे तो वेब चेक […]
Continue reading…