महाकाल और ऑनलाईन में होने वाली साईट की अनियमितता

आज सुबह सोचा कि चलो अगले सप्ताह घर पर होंगे तो भस्मारती में शामिल होने के लिये ऑनलाईन दर्शन का टिकट बुक कर लें, साईट पर पहुँचे तो वहाँ जैसे ही वेबपेज पर कर्सर घुमाया, तो यह निम्न चित्र नजर आया । उस पर हमने क्लिक करके देखा तो उस विज्ञापन से हम एक अश्लील […]
Continue reading…

 

आपने एबीएन अमरो बैंक से लोन लिया था

    आज दोपहर छुट्टी होने पर भी कार्यालय के एक कॉन्फ़्रेंस कॉल पर थे, तभी घर के बीएसएनएल फ़ोन पर घंटी आना शुरू हो गई, हमने अपनी कॉल को म्यूट पर कर के लैंडलाईन उठाया तो सामने से बंदा कहता है कि “मैं चैन्नई से बोल रहा हूँ, मेरा नाम रमेश है” ।     इसी […]
Continue reading…

 

अध्याय १० से ( मगर मछली का ही रूप है )

गीता जी के अध्याय १० में भगवान कृष्ण अपना ऐश्वर्य बताते हैं, जहाँ मैं एक श्लोक पर रुक गया, क्योंकि अभी तक मगर को मैं मछली की तरह नहीं लेता था, परंतु यहाँ पर मगर को मछलियों में ही बताया गया है । पवन: पवतामस्मि राम: शस्त्रभृतामहम। झषाणां मकरश्चास्मि स्त्रोतसामस्मि जाह्नवी ॥३१॥ अर्थात – समस्त […]
Continue reading…