उज्जैन और सिंहस्थ 2016 के बारे में

उज्जैन विश्व के प्राचीन शहरों में है, और प्राचीन शहर ऊँगलियों पर गिने जा सकते हैं। उज्जैन सदियों से पवित्र एवं धार्मिक नगर के रूप में प्रसिद्ध रहा है। चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य ने यहाँ शासन किया उनके नाम पर ही भारत में विक्रम संवत चलता है। चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य के नौ रत्न थे महाकवि कालिदास, […]
Continue reading…

 

एवॉकाडो आईस्क्रीम जो वजन घटाये और फायदा पहुँचाये

एवॉकाडो मध्य अमेरिका के मेक्सिको का फल है जो कि विटामिन बी, विटामिन के, विटामिल ई, विटामिन सी और पौटेशियम से भरपूर है और सबसे बड़ी बात कोलोस्ट्रोल को कम करने में मदद करता है, तो एवॉकाडो हर तरह से हमारे लिये बेहत ही सेहतमंद और बेहतरीन फल है। वैसे तो एवॉकाडो को कच्चा भी […]
Continue reading…

 

विराम – मेरी कविता – विवेक रस्तोगी

भले मैं बोल रहा हूँ हँस रहा हूँ पर अंदर तो खाली खाली सा हूँ कुछ तो है जो खल रहा है कुछ तो है मन और दिल कहीं और है तन तम में कहीं और है याद तो बहुत कुछ है पर वो यादें कहीं कोने में सिमटी सी अपने आप को सँभाले हुए […]
Continue reading…

 

मोर्निग सोशल नेटवर्किये

मोर्निग सोशल नेटवर्किये सुबह उठे और सोच रहे थे कि आज कुछ पुराने लेख जो क्रेडिट कार्ड और डेरिवेटिव पर लिख रहा था उन्हें पूरा लिख दूँगा, परंतु सुबह उठकर हमने मोबाईल हाथ में क्या ले लिया जुलम हो गया, फेसबुक और ट्विटर तो अपने अपडेट हमेशा ही करते रहते हैं, किस किस ने क्या […]
Continue reading…

 

प्रकृति के बीच Real Togetherness कैसे ढ़ूँढ़ें

हम आधुनिक युग में इतने रम गये हैं कि आपस के रिश्तों में इतनी दूरियाँ हो गई हैं जो हमें पता ही नहीं चलती हैं, Real Togetherness हम भूल चुके हैं, जब हम आपस में समय बिताते थे,प्रकृति के अनूठे वातावारण में एक दूसरे के साथ घूमने जाते थे, खेलते थे और जीवन को सही […]
Continue reading…

 

सोशल नेटवर्किंग के युग में टूटती आपसी वर्जनाएँ

आज का युग तकनीक की दृष्टि से बेहद अहम है, हम बहुत सी तरह की सामाजिक तानेबाने वाली वेबसाईट से जुड़े होते हैं और अपने सामाजिक क्षैत्र को, उसके आवरण को मजबूत करने की कोशिश में लगे होते हैं। हम सोशल नेटवर्किंग को बिल्कुल भी निजता से जोड़कर नहीं देखते हैं, अगर हम किसी से […]
Continue reading…

 

साक्षात्कार – पारखी का काम है ।

साक्षात्कार लेना भी एक कला है, केवल थोड़े से समय में (जो कि अमूमन 15 मिनिट से 1 घंटा होता है) किसी को भी परखना भी पारखी का ही काम है। मैं इतने वर्षों में साक्षात्कार लेने और देने दोनों की प्रक्रिया से बहुत बार गुजरा हूँ, हालाँकि साक्षात्कार दिये कम हैं और हमने साक्षात्कार […]
Continue reading…

 

परेशानी में दिमाग की स्थितियाँ

जब भी हम किसी परेशानी में होते हैं तो हमारा दिमाग अलग अलग स्थितियों में चला जाता है, जैसे या तो सुन्न हो जाता है हम किसी भी प्रकार से सोच ही नहीं पाते हैं, दिमाग सुस्त हो जाता है हमारे सोचने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है हम परिस्थितियों से हाथ दो चार करना […]
Continue reading…

 

हरपीज के लक्षण पहचानना बहुत ही मुश्किल होता है

हरपीज के लक्षण पहचानना बहुत ही मुश्किल होता है, पर यह बेहद ही तकलीफदेह बीमारी है और इसको पहचानना केवल डॉक्टर के बस की है, हरपीज के लिये कोई दवाई अभी तक नहीं है। इसकी तकलीफ सहनी ही होती है। लगभग पिछले सोमवार की रात की बात होगी, पीठ पर रीढ़ की हड्डी के पास […]
Continue reading…

 

दिल्ली घूम लिया जाये तो दिमाग भी शांत हो जायेगा

कहीं घूमे हुए बहुत समय हो गया था, इतना अंतराल भी बोर करने लगता है, कि कब हम रूटीन जीवन से इतर हो कुछ अलग सा करें, तो बस पिछले सप्ताहाँत हमने सोच लिया कि इस सप्ताहाँत पर अच्छे से दिल्ली घूम लिया जाये तो दिमाग भी शांत हो जायेगा और ऊर्जा भी आ जायेगी। […]
Continue reading…