आईये मिलकर ढ़ूँढे अपनी कठिनाईयाँ और विकास के रास्ते

            आईये मिलकर ढ़ूँढे अपनी कठिनाईयाँ और विकास के रास्ते जो मैं सुबह की चाय के साथ लिख रहा हूँ गलत नहीं लिखूँगा, आजकल ट्विटर और फेसबुक पर हम अगर किसी एक दल के लिये कुछ लिख देते हैं तो हमें अपने वाले ही विकास विरोधी बताकर लतियाना शुरू कर देते हैं। पर […]
Continue reading…

 

आसुस का ऑल इन वन पीसी और ईबुक दोनों ही अच्छी लग रही हैं

    मैंने अपना पहला लेपटॉप लगभग 8 वर्ष पहले अमेरिका से मँगवाया था, फिर मुझे ऑफिस से लेपटॉप मिल गया तो हमारे लेपटॉप को बेटेलाल ने हथिया लिया और उस लेपटॉप की जो ऐसी तैसी करी है, कि उसका पहले तो कीबोर्ड तोड़ा, तभी बैटरी ने भी दम तोड़ दिया, और थोड़े दिनों बाद लेपटॉप […]
Continue reading…

 

प्रेम केवल जिस्मानी हो सकता है क्या दिल से नहीं ?

प्रेम में अद्भुत कशिश होती है, प्रेम क्या होता है, प्रेम को क्या कभी किसी ने देखा है, प्रेम को केवल और केवल महसूस किया जा सकता है.. ये शब्द थे राज की डायरी में, जब वह आज की डायरी लिखने बैठा तो अनायास ही दिन में हुई बहस को संक्षेप में लिखने की इच्छा […]
Continue reading…

 

हम कचरा फैलाने में एक नंबर हैं (We indians are great and known for litter)

    कचरा फैलाने के मामले में हम भारतीय महान हैं । और कचरा भी हम इतनी बेशर्मी और बेहयाई से फैलाते हैं जबकि हमें पता है कि यही कचरा हम सबको परेशान कर रहा है इसलिये हम सबको बड़े से बड़े पुरस्कार से सम्मानित किया जाना चाहिये, कम से कम इसकी शुरूआत गली से करनी […]
Continue reading…

 

कोहरा, डिफॉगर और कोहरे का अहसास

घर की छत से लिया कोहरे का फोटो     आजकल अपनी सुबह थोड़ी देर से ही हो पाती है, उसके दो कारण हैं एक तो देर रात घर पहुँचना और दूसरा ठंड। जब बारिश होती है तो उस दिन कोहरा थोड़ा कम होता है, पर जबरदस्त कोहरे का आमंत्रण होता है, जब धूप आ जाती […]
Continue reading…

 

कील मुँहासे और जवानी का फूटना

    हम अपनी त्वचा के लिये बहुत सजग होते हैं, त्वचा सुँदर दिखे, निखार आये, इसके लिये पता नहीं क्या क्या जतन करते रहते हैं। कोई मुल्तानी मिट्टी लगाता है तो कोई खीरा, और कोई संतरे के छिलके अपने गालों पर ज्यादा चमक के लिये रगड़ता है। हम सर्दियों में चेहरे पर बादाम का तेल […]
Continue reading…

 

नफरत है वेबसाईट्स फोरमों से जो पासवर्ड भेजते हैं

    आजकल इंटरनेट का युग है, जहाँ पर आप कई जगह सूचना ढ़ूँढ़ने या पाने के लिये कई वेबसाईट्स पर जाते हैं। लगभग 60 प्रतिशत वेबसाईट्स आपकी पहचान अपने साथ रखना चाहती हैं, फिर भले ही वह वेबसाईट फोरम हो या कोई अन्य सूचना देने वाली वेबसाईट। और फिर इनमें से कई वेबसाईट्स आपके ईमेल […]
Continue reading…

 

पेट्रोल पंप पर हो रही लूट से कैसे बचे हम

  कल ऑफिस से आते समय सोचा कि गाड़ी में पेट्रोल भरवा लिया जाये, पर कोहरा इतना जबरदस्त था कि जाने की इच्छा होते हुए भी सोचा कि कल सुबह पेट्रोल भरवा लिया जायेगा। और फिर नाईट्रोजन भी टायरों में चैक करवानी थी, और नाईट्रोजन के हवा वाला पंप केवल सुबह 9 से शाम 8 […]
Continue reading…

 

टाटा बोल्ट के संग टाटा बोल्ट के एरिना में (Get Set Bolt)

    रविवार की सुबह सुहानी थी, ओस न के बराबर थी, बरबस ही वातावरण आनंदमयी होने लगा था, क्योंकि हम टाटा की नई कार बोल्ट देखने महसूस करने शिप्रा मॉल में प्रवेश कर चुके थे। पहले हमें कारों के बारे में ज्यादा कुछ समझ नहीं आता था, परंतु जब से कार चलाने लगे हैं तब […]
Continue reading…

 

विष्णु प्रभाकर की पंखहीन पढ़ते हुए कुछ भाव, मीरापुर, किताबों को शौक और डाकुओं के किस्से

    “पंखहीन” कल से शुरू की, विष्णु प्रभाकर के लिखे गये बचपन के किस्से खत्म ही नहीं होते कभी ये बाबा के किस्से कभी चाचा के तो कभी दादी के किस्से, बीच में डाकुओं के किस्से, और फिर ये सब किस्से बड़े परिवार के मध्य रहने के अनुभव हैं, उनकी लिखी गई भाषा और लिखा […]
Continue reading…