प्रकृति के बीच Real Togetherness कैसे ढ़ूँढ़ें

हम आधुनिक युग में इतने रम गये हैं कि आपस के रिश्तों में इतनी दूरियाँ हो गई हैं जो हमें पता ही नहीं चलती हैं, Real Togetherness हम भूल चुके हैं, जब हम आपस में समय बिताते थे,प्रकृति के अनूठे वातावारण में एक दूसरे के साथ घूमने जाते थे, खेलते थे और जीवन को सही […]
Continue reading…

 

सोशल नेटवर्किंग के युग में टूटती आपसी वर्जनाएँ

आज का युग तकनीक की दृष्टि से बेहद अहम है, हम बहुत सी तरह की सामाजिक तानेबाने वाली वेबसाईट से जुड़े होते हैं और अपने सामाजिक क्षैत्र को, उसके आवरण को मजबूत करने की कोशिश में लगे होते हैं। हम सोशल नेटवर्किंग को बिल्कुल भी निजता से जोड़कर नहीं देखते हैं, अगर हम किसी से […]
Continue reading…

 

साक्षात्कार – पारखी का काम है ।

साक्षात्कार लेना भी एक कला है, केवल थोड़े से समय में (जो कि अमूमन 15 मिनिट से 1 घंटा होता है) किसी को भी परखना भी पारखी का ही काम है। मैं इतने वर्षों में साक्षात्कार लेने और देने दोनों की प्रक्रिया से बहुत बार गुजरा हूँ, हालाँकि साक्षात्कार दिये कम हैं और हमने साक्षात्कार […]
Continue reading…

 

परेशानी में दिमाग की स्थितियाँ

जब भी हम किसी परेशानी में होते हैं तो हमारा दिमाग अलग अलग स्थितियों में चला जाता है, जैसे या तो सुन्न हो जाता है हम किसी भी प्रकार से सोच ही नहीं पाते हैं, दिमाग सुस्त हो जाता है हमारे सोचने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है हम परिस्थितियों से हाथ दो चार करना […]
Continue reading…