MTR (मवाली टिफिन रूम्स) बैंगलोर

बहुत दिनों से चिकपेट जाने का कार्यक्रम बन रहा था, पर जा ही नहीं पा रहे थे, 2 सप्ताह पहले भी गये थे, पर रास्ता भटकने की वजह से वापिस आ गये। इस बार फिर से कार्यक्रम कल सुबह बना, अपने सारे कार्य निपटाकर चल पड़े, भोजन का समय था MTR(मवाली टिफिन रूम्स) अपने खाने […]
Continue reading…

 

मैं जीवन में बहुत चंचल और वाचाल रहना चाहता था… मेरी कविता

मैं जीवन में बहुत चंचल और वाचाल रहना चाहता था। मैं मेरे जीवन को मेरे हिसाब से जीन चाहता था। मैं जी भी रहा था… पर फिर एक ऐसा मोड़ आया, जहाँ सब कुछ बदल गया, मेरा जीवन बदल गया। उस मोड़ के कारण मैं धीर गंभीर हो गया। मैं जीवन को रफ्तार से हराना […]
Continue reading…