तनख्वाह आमदनी सैलेरी कंपनसेशन या कॉस्ट

तनख्वाह याने कि जो तन खा जाती हो और आमदनी याने कि जहाँ से आमद होती है, सैलेरी आंग्लभाषा के शब्द से हमें कुछ समझ नहीं आया, अब कंपनशेसन कहा जाता है मतलब कि मुआवजा भी समझ जा सकता है और ईनाम भी, केवल शब्द का हेरफेर है। ऐसे ही कई जगह इसे कॉस्ट कहा जाता है मतलब कि लागत, हम हमारे मालिकान को कितना कमाकर देंगे। अब लगभग सारी जगहों पर शब्दों को बैलेन्स शीट के हिसाब से उपयोग किया जाता है। आजकल इसका कुछ हिस्सा वैरियेबल हो गया है जो कि वर्षभर के किये गये कार्य-संपादन के बाद कुछ राशि इसके नाम पर भी दी जाती है, जिससे कि सेवक खुश रहे और अगले वर्ष भी काम करता रहे।

 

केवल शब्द से कुछ नहीं होता, शब्द कोई भी हो पर सबका मतलब एक ही होता है और सबकी जिंदगी में इसका एक ही महत्व होता है, आदिकाल से ही इन शब्दों का महत्व वही है जो आज है और भविष्य में रहेगा। इस संख्या का हर वर्ष बढ़ौत्तरी होते रहना भी जरूरी है, जब इस संख्या में ठहराव आने लगे या फिर संख्याएँ बहुत ही धीमे से बदल रही हों तो समझ जाना चाहिये कि कहीं कुछ समस्य़ा है और हमें उस समस्या का समाधान ढ़ूँढ़ने के लिये तत्पर होना चाहिये।

 

जब हम राशि के काँटो पर चढ़ते हैं तो पहले की संख्याएँ जो कि होती तो समान ही हैं परंतु वे पूरी राशि को भार देती हैं, राशि को बड़ा होने में मददगार होती हैं, उन संख्याओं के ऊपर कूद लो, फाँद लो परंतु असर बेअसर ही होता है, पहली संख्या तो इतनी ढ़ीठ होती है कि हिलती ही नहीं, पता नहीं कौन सी चक्की का आटा खाकर बैठी होती है, दूसरी संख्या किसी की सरकती है तो किसी की नहीं और कभी कभी केवल एक ही संख्या बढ़ती है तो कभी तो वह भी पहली संख्या जैसी ढ़ीठ हो जाती है। अब हाँ उसके आगे की संख्याओं की बात करें तो वे फलेक्सिबल होती हैं, वे सरकने में इतना नाटक नहीं करती हैं। उनको कितना भी घुमा लो किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता है।

 

हे तनख्वाह! तुम्हारा इंतजार केवल मुझे नहीं, मेरे अलावा कई लोगों को होता है, तुम एक नहीं कई सपने तोड़ती फोड़ती हो, पता नहीं कितने सपनों को सपनों में ही बदल देती हो, हे आमदनी देवी! आप आद्य देवी हो, पर ये महँगाई देवी! जो कि नई नवेली देवी हैं और बाजार में आई हैं, ये आप पर भारी पड़ रही हैं, ये नई देवी की बढ़ने की रफ्तार इतनी तेज है कि आप इसका मुकाबला ही नहीं कर पा रही हैं, तो आप अपना प्रताप बढ़ायें और आमदनी पर पलने वालों पर कृपा बरसायें।

One thought on “तनख्वाह आमदनी सैलेरी कंपनसेशन या कॉस्ट

  1. आज के समय में बहुत सारी बीमारियां फैल रही हैं। हम कितना भी साफ-सफाई क्यों न अपना लें फिर भी किसी न किसी प्रकार से बीमार हो ही जाते हैं। ऐसी बीमारियों को ठीक करने के लिए हमें उचित स्वास्थ्य ज्ञान होना जरूरी है। इसके लिए मैं आज आपको ऐसी Website के बारे में बताने जा रहा हूं जहां पर आप सभी प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं।
    Read More Click here…
    Health World

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *