बलगम या कफ़ खतरनाक भी हो सकता है (Sputum or Cough can be dangerous)

    हम बेटेलाल के साथ खेल रहे थे और अच्छी बात यह थी कि बेटेलाल कैरम में हमसे जीत रहे थे, तभी हमें थोड़ी खाँसी उठी, मुँह में बलगम (Sputum) था,  हम बलगम (Sputum) थूकने के लिये  उठे तो बेटेलाल बोले “डैडी, आज हार रहे हो, तो बीच में ही उठकर जा रहे हो”, हमने कहा “अरे नहीं, अभी दो मिनिट में आ रहे हैं, बलगम थूककर” बेटेलाल बोले “अच्छा डैडी!! जल्दी से आओ आज तो देखो मैं कैरम जीतकर ही दिखाऊँगा”, तब तक हम वाशबेसिन (Washbasin) पर जाकर बलगम (Sputum) थूक चुके थे और गला खंखार रहे थे।
    जब तक वापिस आये तो देखा बेटेलाल लेपटॉप खोलकर गूगल में बलगम याने कि how cough is made in body.. और बोले “डैडी देखो अभी हम पता लगाते हैं कि ये कफ़ कैसे होता है और इसका क्या इलाज है”, हम भी कुर्सी खिसकाकर बेटेलाल के पास बैठ गये।
    अब हमें बेटेलाल ने बताया कि बलगम को Sputum or Cough कहते हैं और ये गले में नहीं होता यह फ़ेफ़ड़े के बहुत अंदर से आता है, यह एक प्रकार का लिजलिजा पदार्थ होता है और जब बहुत तेजी से हम फ़ेफ़ड़े से साँस निकालते हुए खाँसते हैं तब बलगम बाहर आता है और कई बार बलगम सामान्य खाँसी में भी बाहर आ जाता है, हमें बलगम को उसी समय थूक देना चाहिये, बलगम को वापिस अंदर नहीं लेना चाहिये और ना ही बलगम को कहीं भी किसी भी कोने में लगा देना चाहिये जो कि साधारणत: हम भारतीय लोग करते हैं, इससे किसी दूसरे को भी संक्रमण होने की पूरी संभावना होती है।
    जब हम मंजन करते हैं और नहाते हैं उस समय हम अपने फ़ेफ़डों पर जोर देते हैं और रक्तसंचार बढ़ने से अधिकतर बलगम उसी समय बाहर आता है । और डैडी अगर बलगम में खून दिखाई देता है या मंजन करते हुए मसूड़ों से भी खून दिखाई देता है  या सामान्य रंग से कुछ अलग रंग अगर बलगम का है, या उसमें पस भी दिखाई देता है तो हमें अनदेखा नहीं करना चाहिये और एकदम डॉक्टर अंकल को दिखाना चाहिये क्योंकि ये बीमारियों की प्रारंभिक अवस्था के लक्षण होते हैं, जैसे फ़ेफ़ड़े का कैंसर, अस्थमा, ब्रोंकाइटिस इत्यादि । अगर जल्दी ही अपनी जाँच करवा लें तो इन बीमारियों का इलाज करवा सकते हैं और ठीक हुआ जा सकता है।
    प्रदूषण और किसी के संपर्क में आने से भी यह कफ़ बलगम आ सकता है, तो जितना संभव हो सके उतना किसी भी ऐसे व्यक्ति के संपर्क में आने से बचें जो इन रोगों से ग्रस्त हो । कफ़ के लिये हम कफ़ सायरप पी लेते हैं जिससे ये बेक्टीरिया खत्म हो जाते हैं और हम ठीक हो जाते हैं । और डैडी पता है जब मुझे कफ़ हुआ था और डॉक्टर अंकल ने दवाई दी थी तो मेरा कफ़ मुँह से नहीं निकला था, मेरा कफ़ पॉटी के रास्ते निकल जाता था, वैसे ही कई बार दवाईयों के लेने पर बड़ों का कफ़ भी निकल जाता है।
    डैडी सबको पता होना चाहिये कि अगर त्रिफ़ला रोज लो तो ये पेट के रोग पास आयेंगे ही नहीं सारे रोग अपने आप ही दूर हो जायेंगे, बस पेट ठीक रखना चाहिये और डैडी बाजार का त्रिफ़ला मत खाओ क्योंकि उसमें हरड़, बहेड़ा और आँवले की समान मात्रा होती है, मम्मी कहती है कि त्रिफ़ला याने कि तीन फ़ल के गुण और उसकी मात्राएँ होती हैं हरड़ एक भाग, बहेड़ा दो भाग और आँवला तीन भाग और घर पर बना त्रिफ़ला बेस्ट होता है, इस बार मैंने भी त्रिफ़ला बनवाया था क्योंकि त्रिफ़ला चार महीने से ज्यादा ठीक नहीं होता ।
    चलो डैडी अब कफ़ बलगम पर मैंने आपको बहुत कुछ समझा दिया है अब वापिस कैरम पर, वहीं से अपना खेल शुरू होगा, आज तो मैं ही जीतूँगा, आज मेरा लक अच्छा चल रहा है।
    यह पोस्ट इंडिब्लॉगर की कोलगेट प्रतियोगिता The Moral of the Story is..! के लिये लिखी गई है,  ज्यादा जानकारी के लिये My Health Speak Blog पर देख सकते हैं।

18 thoughts on “बलगम या कफ़ खतरनाक भी हो सकता है (Sputum or Cough can be dangerous)

  1. ज्ञानवर्ध्‍दक और उपयोगी जानकारी। अच्‍छी लगी। बेटेलाल को धन्‍यवाद। साबित हुआ – बेटा, बाप से बढकर।

  2. आपकी हमारी जानकारी में वृद्धि करते आपके बेटेलाल!!
    देखिए कहीं बेटे का नाम ही न छप जाए "बेटेलाल"

    • हम तो इन्हें प्यार से बेटेलाल ही लिखते हैं और पुकारते हैं

  3. अरे वाह खेल -खेल में इतनी जानकारी …बढ़िया हैं बेटेलाल जी …बधाई हो ….

  4. वाह बेटेलाल तो बहुत समझदार हैं। आपको सीख भी दे दिये और गिफ्ट हैंपर भी दिलवा दिया।

  5. Maen aaz hee bazaar se hard, baheda aur aanwala laawunga aur trifla tyar karoonga.yeh meri paheli comment hae

  6. हमारे मुह से बार बार थूक कफ व बलगम आता है कृपिया इसका सही इलाज बताये

  7. Sir, meri age 30 year hai, mere gale me bahut Dino se chipchipa balgam nikalta h aur gala baith jata h gala Haneda kharab hota rahata h, awaj bhi change ho gayi h kya karoon, help me sir.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *