आसुस का ऑल इन वन पीसी और ईबुक दोनों ही अच्छी लग रही हैं

    मैंने अपना पहला लेपटॉप लगभग 8 वर्ष पहले अमेरिका से मँगवाया था, फिर मुझे ऑफिस से लेपटॉप मिल गया तो हमारे लेपटॉप को बेटेलाल ने हथिया लिया और उस लेपटॉप की जो ऐसी तैसी करी है, कि उसका पहले तो कीबोर्ड तोड़ा, तभी बैटरी ने भी दम तोड़ दिया, और थोड़े दिनों बाद लेपटॉप […]
Continue reading…

 

दिल्ली के पास के वे पर्यटक स्थल जहाँ कम ही लोग जाते हैं (Tourist places near Delhi without crowd)

     बहुत दिनों से घूमने का कार्यक्रम बना रहे थे, बैंगलोर और मुँबई इतने समय रहकर आ गये परंतु आलस कहें या समय न मिल पाना कहें, घूमने नहीं जा पाये, अब गुड़गाँव आ गये हैं, यहाँ भी आये हुए 6 महीने हो आये हैं, परंतु यहाँ आकर कार खरीद लेने से कहीं भी घूमना […]
Continue reading…

 

होगेन्नाकल जलप्रपात अप्रितम सौंदर्य (Hogenakkal Fall)

    होगेन्नाकल जलप्रपात  अप्रितम प्राकृतिक सौंदर्य से ओत प्रोत है, कावेरी नदी की अथाह जलराशि देखते ही बनती है। चारों तरफ़ कल कल बहता जल, कहीं बिल्कुल शांत तो कहीं अपनी अल्हड़ जवानी से रंगा हुआ तेज धारा के साथ फ़ुहारों को आसमान में उड़ाता हुआ।     बैंगलोर से लगभग २२० किमी. की दूरी पर […]
Continue reading…

 

वन्डरला एम्य़ूजमेंट पार्क बैंगलोर याने कि मनोरंजन की फ़ुल गारंटी (Wonderla Bangalore Means Full Enjoyment)

    वन्डरला एम्यूजमेंट पार्क बैंगलोर मैसूर रोड पर बैंगलोर से लगभग ३५ किलोमीटर दूर है, और यह मैसूर हाईवे से लगभग १.७ कि.मी. अंदर है, अगर अपने वाहन से जा रहे हैं तो यहाँ पार्किंग की सुविधा उपलब्ध है और बहुत ही विशाल पार्किंग है।   वन्डरला एम्यूजमेंट पार्क याने कि मनोरंजन की फ़ुल गारंटी, […]
Continue reading…

 

पिछले दिनों के कुछ फ़ोटो, उज्जैन प्रवास के दौरान पढ़ी गई किताबें, नेहरु प्लेटिनोरियम और ट्रेन की यात्रा

   कुछ किताबें जो हमने अपने उज्जैन प्रवास के दौरान घर पर पढ़ीं –      ताराघर मुंबई के अंदर का एक फ़ोटो – ताराघर के बाहर के फ़ोटो और उज्जैन जाते समय ट्रेन से खींचा गया एक फ़ोटो और वर्ली सी लिंक का बस में से खींचा गया फ़ोटो –          
Continue reading…

 

नेहरु प्लेनिटोरियम मुंबई की सैर और तारों की छांव में हमारी नींद

    सपरिवार बहुत दिनों से कहीं घूमने जाना नहीं हुआ था, और हमने सोचा कि इस भरी गर्मी में कहाँ घूमने ले जाया जाये तो तय हुआ कि नेहरु प्लेनिटोरियम, वर्ली जाया जाये। पारिवारिक मित्र के साथ बात कर रविवार का कार्यक्रम निर्धारित कर लिया गया। बच्चों को साथ मिल जाये तो उनका मन ज्यादा […]
Continue reading…

 

चैन्नई में भी कम लूट नहीं है.. लुटने वाला मिलना चाहिये..

जैसा कि आमतौर पर सभी शहरों में होती है लूट वैसी ही लूट चैन्नई में भी है, अब अभी समझ नहीं पा रहे हैं कि लूट कम है कि ज्यादा है, हमें तो ये पता है कि लूट, लूट ही होती है, चाहे वह कम हो या ज्यादा। यहाँ पर ऑटो मीटर से चलाने का […]
Continue reading…

 

कुल्लू मनाली और बर्फ़ के पहाड़ों की सैर – मनाली की लोकल सैर

कुल्लू मनाली और बर्फ़ के पहाड़ों की सैर बस की १४ घंटे की लंबी यात्रा के बाद बहुत थकान थी पर चारों तरफ़ देवदार के वृक्ष और बर्फ़ के पहाड़ देखकर थकान कुछ हल्की हुई। होटल ने पिकअप के लिये टेक्सी भेजी थी हम उसमें सवार हो लिये और फ़टाफ़ट नाश्ता कर, तैयार होकर थोड़ी […]
Continue reading…

 

दिल्ली को इन चरसियों से मुक्त करवाने के लिये कृप्या सहयोग करें और दिल्ली को सुँदर बनाने में योगदान दें।

मैं रोज आटो से करोलबाग से कनाटप्लेस अपने ओफ़िस जाता हूँ तो पंचकुइयां रोड और कनाटप्लेस की रोड जहाँ मिलती है, उसके थोड़े पहले ही चरसियों की भीड़ फ़ुटपाथ पर लगी रहती है। खुलेआम भारत की राजधानी दिल्ली में चरस का सेवन कर रहे हैं पर कोई भी किसी भी तरह की कार्यवाही करने को […]
Continue reading…