विष्णु प्रभाकर का प्रेम पत्र अपनी पत्नी सुशीला के लिये

 प्रेम पत्र बहुत पढ़े लिखे हैं आज विष्णु प्रभाकर की किताब पंखहीन पढ़ते हुए उनका एक प्रेम पत्र मिला जिसे उन्होंने अपनी पत्नी सुशीला को लिखा है – रानी,      सोचता हूँ जो हुआ क्या वह सत्य है ? सवेरे उठा तो जान पड़ा जैसे स्वप्न देखा हो।  लेकिन आँखे जो खोलीं तो प्रकाश ने उस सारे स्वप्न को सत्य […]
Continue reading…

 

प्रेम केवल जिस्मानी हो सकता है क्या दिल से नहीं ?

प्रेम में अद्भुत कशिश होती है, प्रेम क्या होता है, प्रेम को क्या कभी किसी ने देखा है, प्रेम को केवल और केवल महसूस किया जा सकता है.. ये शब्द थे राज की डायरी में, जब वह आज की डायरी लिखने बैठा तो अनायास ही दिन में हुई बहस को संक्षेप में लिखने की इच्छा […]
Continue reading…

 

जितना खूबसूरत है प्यार, उतना ही गमगीन भी

    जीवन के तेड़े मेड़े रास्ते रतन को हमेशा से ही पसंद थे, हमेशा ही अपने जीवन में कुछ न कुछ रोमांचक करने की इच्छा इसके जीवन में नये रंग भर देती थी, एक बार कुछ ऐसा करते हुए ही रतन एक खूबसूरत आँखों के बीच फँस गया और जीवन के उस खूबसूरत मोड़ पर […]
Continue reading…

 

कारे कारे घनघोर बादल, ये कारा कारा तुम्हारा प्यार

    सुहानी शाम हो रही थी, बादल पूरे शहर पर घिर से आये थे, ऋत एकदम बदल गयी थी, घनघोर काले बादल ऐसे उमड़ पड़े थे जैसे कि तुम मुझपर अपना प्यार लेकर उमड़ पड़ती हो, और तुम्हारा प्यार भी घनघोर काले बादलों जैसा ही निश्चल और निष्कपट होता है, अपना प्यार की बारिश करती […]
Continue reading…

 

शादी के पहले के प्यार भरे खत (Love Letters) फ़्री और लंबी मोबाईल काल्स में खो गये

जब मेरी शादी पक्की हुई थी, उस समय मोबाईल तो आ गये थे पर इनकमिंग पर भी चार्ज था और आऊटगोइंग बहुत महंगी थी। उस समय तो घर पर लेंडलाईन से भी आऊटगोइंग करने पर ज्यादा चार्ज था और आमदनी कम। मेरी शादी पक्की होने के छ: महीने बाद हुई थी पर फ़ोन महंगा पड़ता […]
Continue reading…