प्राकृतिक संसाधनों के लिये जवाबदेही

प्राकृतिक संसाधन क्या होते हैं, जो हमें प्रकृति से मिलते हैं, प्रकृति प्रदत्त होते हैं। हमें इसका उपयोग बहुत ही सावधानीपूर्वक करना चाहिये, परंतु ऐसा होता नहीं है। इस विषय के संबंध में कल अपने केन्टीन में एक पोस्टर देखा था जिसमें दिखाया गया था कि एक गाजर को तैयार होने में लगभग ६ माह […]
Continue reading…

 

हम बोलेगा तो बोलोगे कि बोलता है… एक मेमशाब है साथ में शाब भी है..

एक गँवार आदमी को एक देश का सूचना तकनीकी मंत्री बना दिया गया, जिसे संगणक और अंतर्जाल का मतलब ही पता नहीं था। उस गाँव के संविधान में लिखा था कि सभी को अपनी बातें कहने की पूर्ण स्वतंत्रता है, परंतु उस जैसे और भी गँवार जो कि पेड़ के नीचे लगने वाली पंचायत में […]
Continue reading…

 

भारत का सबसे बड़ा हिन्दी अखबार दैनिक भास्कर ईपेपर संस्करण (India’s largest Hindi News paper Dainik Bhaskar Epaper Edition)

    कई दिनों से हिन्दी के ईपेपर संस्करण पढ़ रहे हैं, हमें सबसे अच्छा दैनिक भास्कर लगता है क्योंकि भारत का सबसे बड़ा हिन्दी का अखबार है और लगभग हर संभाग स्तर पर उसके संस्करण उपलब्ध हैं, जैसे हम बैंगलोर में रहते हैं परंतु रोज उज्जैन का अखबार पढ़कर, उज्जैन के बारे में जानकारी मिलती […]
Continue reading…

 

इकोनोमिक टॉइम्स (Economics Times) और टॉइम्स ऑफ़ इंडिया (Times of India) में वित्तीय प्रबंधन पर लिखी जाती है ब्लॉगों से चुराई हुई सामग्री ?

    इकोनोमिक टॉइम्स (Economics Times) और टॉइम्स ऑफ़ इंडिया (Times of India) बहुत सारे लोग पढ़ते होंगे। सोमवार को इकोनोमिक टॉइम्स में वेल्थ (Wealth) और ऐसे ही टॉइम्स ऑफ़ इंडिया (Times of India) में भी आता है, जिसमें वित्तीय प्रबंधन के बारे में बताया जाता है, पिछले दो महीनों से लगातार इन दोनों अखबारों को […]
Continue reading…

 

जाती है इज्जत तो जाने दो कम से कम भारत की इज्जत लुटने से तो बच जायेगी

    आज सुबह के अखबारों में मुख्य पृष्ठ पर खबर चस्पी हुई है, कि दिल्ली में कॉमनवेल्थ गेम्स की तैयारी के दौरान ही एक बन रहा पुल गिर गया, और २७ घायल हुए।     इस भ्रष्टाचारी तंत्र ने भारत की इज्जत के साथ भी समझौता किया और भारत माता की इज्जत लुटने से का पूरा […]
Continue reading…

 

मेरी चाहतें ….. रोज उठना ना पड़ता, रोज नहाना न पड़ता…, रोज खाना ना पड़ता…, काश कि बुशर्ट भी पेंट जैसी ही होती…, जिससे प्रेस जल्दी होती.. ।

    रोज रात को सोने के बाद …. सुबह उठना क्यों पड़ता है … कितना अच्छा होता कि …. रोज उठना ना पड़ता, रोज नहाना न पड़ता…, रोज खाना ना पड़ता…, रोज पानी ना भरना पड़ता, रोज बस मीठी नींद के आगोश में रहते…, रोज सुबह की सैर पर नहीं जाना पड़ता…, रोज ऑफ़िस न […]
Continue reading…

 

क्या आपको पता है कि सभी अंग्रेजी अखबारों की वार्षिक सदस्यता भी आप ले सकते हैं… जैसे कि टाईम्स ऑफ़ इंडिया…(Yearly Subscription of English News papers… Do you know ???)

     क्या आपको पता है कि सभी अंग्रेजी अखबारों की वार्षिक सदस्यता भी आप ले सकते हैं, इसमें लगभग अंग्रेजी याने कि आंग्लभाषा के सभी अखबार शामिल हैं, जैसे मुंबई में ९०० रुपये में सालभर टाईम्स ऑफ़ इंडिया और मुंबई मिरर या ईकनोमिक टाईम्स आप ले सकते हैं, हिन्दुस्तान टाईम्स १९९ रुपये में सालभर पढ़ […]
Continue reading…

 

६५ देशों के ६९७ अखबारों के मुख्यपृष्ठ एक साथ और प्रकाशित संस्करण पढ़ सकते हैं वो भी रोज

क्या कभी आपने सोचा है कि आप एक साथ ६५ देशों के ६९७ अखबारों के मुख्यपृष्ठ एक साथ देख पायेंगे और उन अखबारों को पढ़ पायेंगे तो न्यूजियम लाया है आपके लिये यह सेवा । आप गैलेरी, लिस्ट या मेप से अखबार को चुनकर पढ़ सकते हैं, भारत के समाचार पत्रों में शामिल हैं- मुँबई […]
Continue reading…