साक्षात्कार – पारखी का काम है ।

साक्षात्कार लेना भी एक कला है, केवल थोड़े से समय में (जो कि अमूमन 15 मिनिट से 1 घंटा होता है) किसी को भी परखना भी पारखी का ही काम है। मैं इतने वर्षों में साक्षात्कार लेने और देने दोनों की प्रक्रिया से बहुत बार गुजरा हूँ, हालाँकि साक्षात्कार दिये कम हैं और हमने साक्षात्कार लिये ज्यादा हैं। साक्षात्कार लेने से साक्षात्कार देने में बहुत मदद मिलती है, हम साक्षात्कार देते समय साक्षात्कार लेने वाले की मनोस्थिती को समझने में लगभग हर बार कामयाब होते हैं।

साक्षात्कार लेते समय हम सबसे पहले साक्षात्कार देने वाले का रिज्यूमे ध्यान से पढ़ते हैं, और अपने काम के बिंदुओं पर निशान लगाते जाते हैं, क्योंकि हमें जब भी कोई बंदा लेना होता है तो वह किसी विषय का ज्ञाता होता है। आंग्लभाषा में कहते हैं Skilled Resource । तो जिस विषय के लिये साक्षात्कार लिया जाता है उसका एक पैनल होता है और एक पैनल में वह होता है जो कि सारा तमाशा देखता है और शांति के साथ पूरा साक्षात्कार देखकर केवल साक्षात्कारदाता से कुछ सवाल पूछता है जिससे उसके व्यवहार और प्रतिक्रिया का पता चलता है।

साक्षात्कार

साक्षात्कार

साक्षात्कारदाता को हमेशा ही अच्छे कपड़ों में अपने आप को प्रदर्शित करना चाहिये, पुरूष हैं तो शेव और बाल अच्छे से करना चाहिये, महिला हैं तो बालों को अच्छे से सँवारना चाहिये। खुद को आईने में देखकर अपने आप को हम कुछ अलग लगना चाहिये। खुद में आत्मविश्वास रखें और अपना आत्मविश्वास अपनी बातों को अच्छे से रखकर प्रदर्शित करें। अपनी हर बात को जो आप साक्षात्कार में रखने वाले हैं, उसकी अच्छे से अकेले में ही प्रेक्टिस करें, इससे जब आप बोलेंगे तो आपकी हिचक खत्म हो जायेगी और आप साक्षात्कार में ज्यादा अच्छे से बोल पायेगे।

साक्षात्कार देने से पहले की भी तैयारी अच्छे से करें आप अपना रिज्यूमे अच्छे से पढ़ लें और सुनिश्चित कर लें कि आपने जो लिखा है आप उस सबके बारे में अच्छे सा जानते हैं, अगर किसी चीज पर काम न किया हो तो बेहतर है कि आप अपने रिज्यूमें में उसके बारे में न लिखें, क्योंकि हो सकता है कि आप केवल उसी बिंदु पर ही सिलेक्ट न हो पायें, अपने रिज्यूमें में और अपने साक्षात्कार में कही गई बातों में हमेशा ईमानदारी बरतें, याद रखें इससे आपको ही सहायता होगी, क्योंकि हो सकता है कि अभी आप जिस जगह काम कर रहे हैं उस जगह के बारे में साक्षात्कारकर्ता को अच्छे से पता हो या कोई उसकी जान पहचान वाला हो।

आलस को अपने ऊपर हावी न होने दें। साक्षात्कार देने से पहले अपने लिये पॉजिटिव एनर्जी बनायें और खुद को उसी पॉजिटिव ऊर्जा में रहने दें, बाहरी ऊर्जा प्रवाह के लिये आप कोई भी चॉकलेट खा लें जिसमें चोको की मात्रा अच्छी हो, हाँ कुछ भी खाने के पहले पनी सेहत का ध्यान जरूर रखें। अपने दिमाग में, मन में कोई भी नकारात्मक विचार न आने दें और कोशिश करें कि आप साक्षात्कार देने तक अपने रिज्यूमे के हर बिंदु में मन ही मन एक चक्कर लगा लें, इस तैयारी से आपको जबाब देते समय बहुत मदद होगी।

जब आप साक्षात्कार देने गये हैं तो वहाँ पर भी अपनी सोशल नेटवर्किंग का उपयोग करें तो आपको पता चल जायेगा कि और कहाँ कहाँ पर अभी साक्षात्कार हो रहे हैं और साक्षात्कार में क्या पूछा जा रहा है।

मुझे उम्मीद है कि बतायी गई बातों से आपको मदद मिलेगी।

One thought on “साक्षात्कार – पारखी का काम है ।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *