हानिकारक बापू

हानिकारक बापू – यह गाना है आमिर खान की फिल्म दंगल का, जबसे हमारे बेटेलाल ने यह गाना सुना है, तब से वे इसे कई बार सुन चुके हैं और लगभग याद ही कर लिया है। अब आलम यह है कि जब भी हम या घरवाली कुछ कहने को होते हैं तो बस इस गाने को गाना शुरू कर देते हैं। हमें भी उत्सुकता हुई कि आखिर यह गाना बना ही क्यों ?

फिल्म की कहानी और ट्रेलर से इतना पता चला कि मुख्य अभिनेता आमिर खान जो कि एक पहलवान की भूमिका में हैं और घर में बेटे होने का इंतजार कर रहे होते हैं, परंतु उनके घर में केवल लड़कियाँ ही पैदा हो रही होती हैं, और ये स्वर्ण पदक जीतने में नाकामयाब रहे तो अपना यह सपना अपने बेटे से पूरा करवाना चाहते हैं। पर एक दिन उनकी दो लड़कियों नें दो गाँव के छोरों को धो दिया तो पहलवान पिता ने सोचा कि पदक तो बेटी भी ला सके है और बस पहलवान पिता दोनों बेटियों के पीछे लग गया कि अब तो ये छोरियाँ ही स्वर्ण पदक लायेंगी।

एक संवाद बहुत पसंद आया, जब पहलवान अपनी बेटी से कहता है “बेटे ध्यान रखना सिल्वर मैडल वाले को लोग याद रखते हैं पर गोल्ड मैडल वाले की मिसालें दी जाती हैं, और जिनकी मिसालें दी जाती हैं वे कभी भूले नहीं जाते।“ पहलवान ने बात तो भी बिल्कुल सही कही।

हमने हमारे बेटेलाल से कहा कि तुम खेलो, खेलने की कोई मनाही नहीं है, बस अब हमारे साथ दौड़ने भी लगो, जिससे तुम्हें ही खेलने में मदद मिलेगी। पहले ज्यादा दौड़ नहीं पाते थे, परंतु अब तो 5 किमी बहुत आसानी से हमारे साथ दौड़ लेते हैं और जब 9-10 किमी की बात आती है तो हानिकारक बापू गाना गाने लगते हैं। हमने समझाया कि ध्यान रखो दौड़ना स्वास्थ्य के लिये बहुत ही अच्छी बात है, तुम बॉस्केटबॉल खेलो, कोई मनाही नहीं है, परंतु दौड़ना हमेशा काम आयेगा। कम उम्र से दौड़ोगे तो लोग तुम्हें पहचानेंगे क्योंकि दौड़ने वाले लोग इस दुनिया में कम ही हैं। अधिकतर लोग केवल सोफे में ही धँसे रहना चाहते हैं और टीवी से ही चिपके रहना चाहते हैं।

बेहतर है कि तुम टीवी छोड़कर कुछ ऐसा करते रहो जो तुम्हें एक दिन भले काम न आये परंतु इससे तुम्हारी एक अलग ही पहचान स्थापित होगी और हमेशा स्वस्थ्य रहोगे। लगता है कि बेटेलाल को हमारी बात समझ में आ गई है और वे अपने स्कूल की मिनिथॉन में भाग लेकर आये हैं, बहुत खुश थे।

हानिकारक बापू गाने के बोल ही क्या पूरा गाना ही जबरदस्त लिखा है, आप भी यहाँ सुनिये –

 

One thought on “हानिकारक बापू

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *