सोशल नेटवर्किंग के युग में टूटती आपसी वर्जनाएँ

आज का युग तकनीक की दृष्टि से बेहद अहम है, हम बहुत सी तरह की सामाजिक तानेबाने वाली वेबसाईट से जुड़े होते हैं और अपने सामाजिक क्षैत्र को, उसके आवरण को मजबूत करने की कोशिश में लगे होते हैं। हम सोशल नेटवर्किंग को बिल्कुल भी निजता से जोड़कर नहीं देखते हैं, अगर हम किसी से […]
Continue reading…

 

ट्रेड यूनियन पर एक संवाद फ़ेसबुक से

Vivek Rastogi Yesterday at 8:03am · ये हड़ताल अपने समझ में नहीं आती, ये सब लोग ज्यादा काम करके ज्यादा कमाई करवायें संस्थानों की फ़िर बोलें अब हमारा वेतन बढ़ाओ भत्ते बढ़ाओ Like · · Unfollow Post · Share · Promote Arpit Singh Pandya, Dhyanshree Shailesh Vyas and 2 others like this.   सिद्धार्थ जगन्नाथ […]
Continue reading…

 

कभी कभी चैट से भी खुशियाँ दिल को बाग बाग कर देती हैं ।

    जिंदगी मुश्किल का दूसरा नाम है और जो मुश्किलों का सामना डटकर करते हैं, वे अपने आप में हरफ़नमौला होते हैं। सहनशीलता जिनमें होती है वे एक ना एक दिन अपने लक्ष्य पर जरूर पहुँचते हैं, सफ़लता उनके कदम चूमती है। मुश्किलों से घबराकर जो जीवन के सामने अपने हथियार डाल दे वे बुजदिल […]
Continue reading…

 

आज की पीढ़ी और अविष्कार…

अविष्कार मानव इतिहास में जिज्ञासा से उत्पन्न होने वाली एक महत्वपूर्ण बात है। मानव ने जब अविष्कार करना शुरू किया तब उसे जरूरत थी, आज हमारे पास इतने संसाधन मौजूद हैं परंतु अब उनको बेहतर करने की जरूरत है। अभी भी नई नई चीजों खोजी जा रही हैं। जब पहिया खोजा गया होगा तो वह […]
Continue reading…